क्लोरिनम [ Chlorinum 30C Homeopathy In Hindi ]

689

[ क्लोरिन ] – डॉ हेरिंग ने इसकी सबसे पहले परीक्षा की थी। क्लोरम टिंचर में – 100 भाग में एक भाग क्लोरिन गैस रहती है। श्वास-पथ से क्लोरिन गैस भीतर लेने से श्वासनली द्वार में आक्षेप पैदा हो जाता है। डॉ हेरिंग का कहना है – “श्वासपथ से हवा जाती तो आसानी से है, पर बाहर नहीं निकल सकती।

श्वास रोग के जिन-जिन लक्षणों में होमियोपैथी में क्लोरिन उपयोग की जाती है उनसे श्वास रोग में फायदा होता है।

जीभ में बहुत ज्यादा सूखापन – इस दवा का एक और भी विशेष लक्षण है। टाइफाइड-ज्वर या किसी अन्य कमजोर करने वाली बीमारी में – जीभ में बहुत ज्यादा सूखापन ( extreme dryness ) मालूम हो तो सबसे पहले इस दवा का प्रयोग कर देखें। इससे शरीर की चरम सीमा पर पहुंची हुई सुस्ती भी दूर हो जाती है। दमा – prolonged, loud whistling rales.

गैंग्रीन ( सड़न ) – इस रोग में क्लोरम का बाहरी और भीतरी प्रयोग करने से अकसर बहुत फायदा होता है।

स्मृति-शक्ति – बिलकुल याद न रहना, अपना नाम तक भूल जाना।

क्रम – 3 से 6 शक्ति।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.