Homeopathic Treatment Of Melasma In Hindi [ चेहरे की झाई का होम्योपैथिक इलाज ]

0
1720

इस पोस्ट में हम मेलास्मा ( चेहरे पर झाइयां ) के बारे में जानेंगे और उसके होम्योपैथिक दवा की चर्चा करेंगे।

मेलास्मा ज्यादतर प्रेग्नेंट महिलाओं हो हुआ करता है। मेलास्मा में चेहरे के ऊपर काला धब्बा हो जाया करता है। इस तरह के धब्बे में खुजली और जलन नहीं होती परन्तु ये खूबसूरती को बिगाड़ देते हैं।

मेलास्मा ( चेहरे पर झाइयां ) क्यों होती हैं ?

हमारे त्वचा में मौजूद मेलनोसाइट (Melanocytes) कोशिका मेलेनिन का उत्पादन करती है। मेलेनिन पिगमेंटेशन के कारण ही हमारे चेहरे का रंग बरक़रार रहता है, मेलेनिन पिगमेंटेशन कम होने से चेहरा गोरा और ज्यादा रहने से चेहरा काला होता है। जब महिला प्रेग्नेंट होती है और छठे महीने से Estrogen and Progesterone बढ़ना और घटना शुरू हो जाता है इसी imbalance के कारण मेलनोसाइट कोशिका में इफ़ेक्ट पड़ता है और मेलेनिन पिगमेंटेशन बढ़ने लगता है। अब अगर प्रेग्नेंट महिला धुप में गई तो सूर्य के UV किरणों से उनका मेलेनिन पिगमेंटेशन काफी ज्यादा बढ़ जाता है और चेहरे के किसी एक area में धब्बे और झाइयां पड़ जाती है।

मेलास्मा का दूसरा कारण Genetical भी है। अगर आपके माता को मेलास्मा हो चूका है तो आपको भी मेलास्मा होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

मेलास्मा ज्यादातर प्रेग्नेंसी के समय होता है, जैसे ही डिलीवरी हो जाती है तो 6 महीने के अंदर 50-60% के केस में मेलास्मा अपने आप ठीक हो जाती है। किसी-किसी केस में कुछ महिलाओं का मेलास्मा ठीक नहीं हो पता इसका मुख्य कारण थायरॉइड का गड़बड़ होना या Genetical हो सकता है। वैसी महिलाओं के झाइयों या धब्बे का इलाज एलोपैथी में होना मुश्किल है परन्तु हाँ होम्योपैथी में इसका इलाज संभव है।

मेलास्मा ( चेहरे पर झाइयां ) के लक्षण

मेलास्मा में काला धब्बा चेहरे पर होता है परन्तु चेहरे पर नहीं होता, कुछ ही area में आपको देखने को मिलेगा। उसमे कुछ भी खुजली, जलन महसूस नहीं होगी।

मेलास्मा ( चेहरे पर झाइयां ) की होम्योपैथिक दवा

Thuja 200 – थूजा 200 पोटेंसी में लेनी है। इसकी दो बून्द सिर्फ रात में सोने से पहले लें। इसका उपयोग ये है की आपके शरीर में जितने भी hormonal disbalance हैं वो इसको ठीक करता है। ये बहुत ही इफेक्टिव मेडिसिन है।

China 30 – अगर स्किन में काले या ग्रेय रंग का धब्बा पड़ गया है तो ये मेडिसिन बहुत ही कारगर है। इसकी दो बून्द दिन में 3 बार लें। Discolournation के लिए बहुत ही उत्तम मेडिसिन है।

Caulophyllum 30 – प्रग्नेंसी के दौरान अगर आपके चेहरे पर झाइयां दिखनी लगी हों तो ये मेडिसिन अच्छा काम करती है। इसे प्रग्नेंसी के दौरान नार्मल डिलीवरी के लिए भी देना चाहिए। काफी अच्छे रिजल्ट मिलते हैं। इसकी दो बून्द दिन में दो बार लें।

Copaiva Officinalis 30 – ये दवा थोड़ी मुश्किल से मिलती है परन्तु मेलास्मा ( चेहरे पर झाइयां ) के लिए ये बहुत ही उत्तम मेडिसिन है। इसकी दो बून्द दिन में 3 बार लें। इसके रिजल्ट बहुत ज्यादा अच्छे हैं।

Topi berberis cream – ये WSI कम्पनी की बहुत ही अच्छी क्रीम है। ये चेहरे पर झाइयां हटाने के लिए बहुत अच्छी रहती है। ये 65 रूपए की आती है। चेहरे को धोने के बाद इस क्रीम को दिन में दो बार लगाएं। रात में इस्तेमाल न करें।

Marks go cream – ये रात में झाइयों पर लगाना है। इसकी कीमत तक़रीबन 75 रूपए हैं।

इन सभी को कम से कम दो महीने तक इस्तेमाल करें और आपको काफी अच्छे रिजल्ट मिलेंगे।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here