थाइमस ग्रन्थि की संरचना और कार्य

2,324

इस ग्रन्थि का कुछ अंश वक्ष में वक्ष-अस्थि (Sternum) के पीछे और कुछ भाग ग्रीवा के नीचे के भाग में रहता है । जन्म के समय इसका मार 17 से 37 ग्राम तथा 11 से 15 वर्ष की आयु में 37 से 52 ग्राम होता है । पन्द्रह वर्ष की आयु के बाद इसका भार घटने लगता है और 65 वर्ष की आयु में इसका भार मात्र 6 ग्राम रह जाता है । प्राय: इसकी लम्बाई ढाई इंच और चौड़ाई 1 इंच के लगभग होती है । इसका रंग गुलाबी तथा धूसर वर्ण का होता है ।

थाइमस ग्रन्थि के कार्य

हालाँकि इस ग्रन्थि के विशेष कार्य अभी तक ज्ञात नहीं हो सके हैं, फिर भी जो कार्य अभी तक प्रकाश में आये हैं, वे निम्नलिखित हैं –

• यह ग्रन्थि वसा के काम को घटाने में सहयोग देती है ।

• इसको शरीर से निकाल देने पर अथवा इसके खराब हो जाने से मनुष्य छोटा और दुर्बल हो जाया करता है ।

• इसके अधिक बढ़ जाने से बच्चों की कभी-कभी अचानक ही मृत्यु हो जाती है ।

• कई शरीर शास्त्रियों का कथन है कि थाइमस ग्रन्थि का जननेन्द्रियों (लिंग, अण्डकोष तथा योनि आदि अंगों) के साथ कुछ न कुछ सम्बन्ध अवश्य है क्योंकि बचपन में इस ग्रन्थि को निकाल देने से जननेन्द्रिय समय से पहले ही बढ़ जाती है ।

• कभी-कभी इसकी कमी से मनुष्य दमा (Asthma) रोग से पीड़ित होता भी देखा गया है ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.