जीभ, मुंह का स्वाद बदलना और मुंह में कड़वापन का होम्योपैथिक इलाज

5,223

मुंह के स्वाद में परिवर्तन मुख्यत: दो प्रकार का होता है – (1) स्वाद में कमी आ जाना तथा (2) स्वाभाविक से भिन्न स्वाद प्रतीत होना । स्वाद-परिवर्तन के उक्त दोनों प्रकारों की लक्षणानुसार चिकित्सा निम्नलिखित है :-

स्वाद में कमी आ जाना

(1) स्वाद में कमी का अनुभव होना – ‘पल्स 6‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(2) फीका स्वाद आना – ‘कैल्केरिया-कार्ब 6‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(3) स्वाद बिल्कुल न आना – ‘नेट्रम-म्यूर 6‘, ‘सल्फर 3‘ तथा ‘मैग-कार्ब 6‘ इनमें से किसी भी एक औषध को प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(4) जीभ पर सफेदी तथा भोजन का स्वाद न लगना – ‘एण्टिम-क्रूड 6‘ अथवा ‘एण्टिम-टार्ट 6‘ – इनमें से किसी भी एक औषध को प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(5) ठण्ड लगने के कारण गन्ध तथा स्वाद का न आना – ‘मैग्नेशिया-म्यूर 3‘ इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(6) मुंह में छाले होने के साथ ही, स्वाद की अनुभूति भी न होना – ‘बोरेक्स 3‘ इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

स्वाद में परिवर्तन हो जाना

किसी वस्तु के यथार्थ-स्वाद में परिवर्तन का अनुभव होने पर लक्षणानुसार निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करना चाहिए :-

(1) प्रत्येक वस्तु का स्वाद तीव्र अनुभव होना – ‘कैम्फर 3‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(2) रोटी का स्वाद मीठा प्रतीत होना ‘मर्क-सोल 6‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(3) भोजन तथा पानी का स्वाद खट्टा तथा दूध का स्वाद खराब अनुभव होना – ‘नक्स-बोमिका 6‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(4) प्रत्येक वस्तु का स्वाद नमकीन अनुभव होना – ‘बेलाडोना 3‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(5) खाद्य-पदार्थों का स्वाद झाग जैसा, मीठा-सा तथा धातु जैसा अनुभव होना – ‘क्युप्रम-मेट 6‘, इसे प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें।

(6) प्रत्येक वस्तु का स्वाद कड़वा लगना – ‘नेट्रम-म्यूर 6‘, ‘चायना 3‘, ‘पल्स 3’ अथवा ‘कैम्फर 3‘ – इनमें से किसी भी एक औषध को प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

(7) प्रत्येक वस्तु का स्वाद खट्टा, धातु जैसा अथवा चिकनाई जैसा अनुभव होना – ‘रस टाक्स 3‘, इसे प्रति 4 घंटे के अंतर से दें।

(8) खाना खा चुकने के बाद भी, मुंह में भोजन का स्वाद बना रहना – ‘नाइट्रिक एसिड 6‘ अथवा ‘नेट्रम-म्यूर 6‘ – इनमें से किसी भी एक औषध को प्रति 4 घण्टे के अन्तर से दें ।

स्वाद के अनुसार औषध प्रयोग

किसी प्रकार का स्वाद अनुभव होने पर, कौन-सी औषध लाभ करती है, इसे निम्नानुसार समझना चाहिए :-

आर्जेण्टम-नाइट्रिकम 6 – मिट्टी जैसा स्वाद आने पर।

आर्निका 3, अथवा आरम म्यूर 3x – सड़ाँध जैसा स्वाद आने तथा मुंह से भी सड़ाँध जैसी गन्ध आने पर ।

एल्यूमिना 3 – रक्त जैसा स्वाद आने पर ।

एस्कुलस 3 – ताँबें जैसा अथवा धातु जैसा स्वाद आने पर ।

कैल्केरिया-कार्ब 30 – दुर्गन्धित तथा खट्टा स्वाद आने पर ।

चायना 30 – कड़वा स्वाद आने पर ।

चेलिडोनियम 3 – खाते-पीते समय सही स्वाद का अनुभव होना, परन्तु अन्त समय में कड़वे स्वाद की अनुभूति तथा कभी-कभी रक्त जैसा मीठा स्वाद आने पर।

नक्स-वोमिका 30 – प्रात:काल मुंह का बे-स्वाद रहना, खाना-पीना खट्टा लगना, मुंह में खट्टा अथवा कड़वा स्वाद तथा मुंह से बुरी गन्ध आने पर ।

नाइट्रिक-एसिड 6 – खाँसते समय मुंह में खून जैसा स्वाद आने पर।

पल्सेटिला 30 – घृणास्पद, झागदार तथा पित्त-प्रकृति का स्वाद आने पर ।

बोरैक्स 3 – फीका-फीका स्वाद आने पर ।

मर्कसोल 6 – नमकीन तथा मीठा स्वाद, सड़े अण्डे जैसा स्वाद तथा रोटी भी मीठी-सी लगने पर ।

मर्क-कोर 6 – कड़वा, झाग तथा धातु जैसा स्वाद लगने पर ।

रियुम 3, 6 – सोकर उठते समय मुंह का बुरा-बुरा स्वाद होने पर ।

लाइकोपोडियम 30 – प्रत्येक वस्तु खट्टी लगने पर ।

सल्फर 30 – कड़वा, लेई जैसा, धातु, पित्त, रक्त अथवा सिरके जैसा स्वाद लगने पर ।

हाइड्रैस्टिस 30 – प्रातःकाल मुंह का स्वाद बिगड़ा हुआ, भोजन का स्वाद आजीब-सा तेजाबी अथवा मिर्चों जैसा लगना ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.