अश्वगंधा मेडिसिन के उपयोग और फायदे [ Ashwagandha Benefits In Hindi ]

0
5214

इस पोस्ट में हम अश्वगंधा होम्योपैथिक मेडिसिन के लाभ और उपयोग के बारे में जानेंगे।

यह भारतीय प्राचीन औषधि है जिसका उपयोग आयुर्वेद में काफी समय पहले से होता आ रहा है। अश्वगंधा प्लांट किंगडम की मेडिसिन है जिसे हम इंडियन Ginseng भी बोलते हैं। अश्वगंधा के अंदर कुछ नेचुरल स्टेरॉयड और एल्केलायड होते हैं और जब हम अश्वगंधा का सेवन करते हैं तो वो सबसे पहले हमारे दिमाग पे असर करते हैं। अगर अच्छे से नींद न आती हो, सुस्ती रहती हो, तो अश्वगंधा बहुत अच्छा काम करती है। अगर शरीर में कहीं भी इन्फेक्शन हो जाये, चाहे वो बैक्टीरिया से हो या वायरल हो तो अश्वगंधा anti inflammatory जैसा इन्फेक्शन को ठीक करने का काम करता है। अश्वगंधा हमारे शरीर में इम्युनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता) को भी बढ़ाती है। अश्वगंधा पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन लेवल को बढ़ाती है। अगर पुरुष में टेस्टोस्टेरोन लेवल कम है तो उसे कुछ समस्या जैसे शीघ्रपतन, इरेक्टाइल डिसफंक्शन, दाढ़ी का नहीं आना इत्यादि को भी अश्वगंधा अच्छा करती है। यह दवा टॉनिक की तरह हमारे शरीर में असर करती है, अगर बदहजमी की समस्या है, जल्दी-जल्दी बीमार पड़ जाते हैं, जल्दी थक जाते हैं तो इस दवा को याद किया जा सकता है।

याद रखें अश्वगंधा हमारे शरीर में हॉर्स पावर (Horse power) को बढ़ा देती है।

अश्वगंधा के लक्षण और उपयोग

  • अगर आप मानसिक रूप से बहुत थके हुए हैं, जिसके कारण शीघ्रपतन और इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या हो गई है तो अश्वगंधा का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • मानसिक थकान के कारण सिर में दर्द होने लगे तो अश्वगंधा अच्छा असर करती है।
  • मानसिक तनाव और चिंता के कारण चिड़चिड़ापन होता हो तो अश्वगंधा का उपयोग अवश्य करें।
  • अगर शारीरिक रूप कमजोर हैं, चिंता और तनाव के कारण दुबलापन आया है तो अश्वगंधा बहुत अच्छा काम करती है।
  • काम करने के बाद बहुत थकान और बदन दर्द में भी अश्वगंधा का उपयोग अच्छा रहता है।
  • हमेशा बदहजमी और अपच की शिकायत रहना, गैस बनना, खाना शरीर में नहीं लगता तो अश्वगंधा का उपयोग करना चाहिए।
  • अगर महिलाओं में यूरिन इन्फेक्शन की समस्या रहती हो तो उन महिलाओं को अश्वगंधा का सेवन करना चाहिए।
  • ठण्ड में गठिया या वात रोग का बढ़ने के लक्षण में अश्वगंधा बहुत अच्छा काम करती है।
  • अश्वगंधा हमारे शरीर में कैंसर के सेल को बढ़ने से रोकती है। अगर नियमित अश्वगंधा का सेवन किया जाए तो कैंसर से बचा जा सकता है। खासकर अश्वगंधा ब्लड कैंसर के लिए बहुत अच्छी मेडिसिन है।
  • हाइपर टेंशन के लिए भी अश्वगंधा बहुत अच्छी दवा है। अगर ब्लड प्रेशर बढ़ जाये तो भी इसका उपयोग बहुत अच्छा रहता है।

अब समझते हैं की अश्वगंधा को किस पोटेंसी में उपयोग करें :-

अगर आप दुबले हैं और बॉडी बनाना चाहते हैं, तो अश्वगंधा Q पोटेंसी की 20 बून्द आधे कप पानी में मिला कर खाना खाने के एक घंटे पहले दिन में 3 बार पीना है। नियमित 3 महीने तक इस दवा का सेवन करने से बहुत अच्छे परिणाम मिलेंगे।

अगर शीघ्रपतन, इरेक्टाइल डिसफंक्शन या नपुंसकता की समस्या है तो तो अश्वगंधा Q पोटेंसी की 20 बून्द आधे कप पानी में मिला कर खाना खाने के एक घंटे पहले दिन में 3 बार पीना है। इसके 3 से 4 महीने तक सेवन से समस्या ठीक हो जाएगी।

ऊपर बताये गए हर समस्या में अश्वगंधा Q प्रयोग बहुत अच्छा रहता है। अगर हमेशा जवान दिखना और महसूस करना है तो इसका नियमित सेवन करना चाहिए।

इसका किसी भी प्रकार का कोई साइड इफेक्ट नहीं है और इसे किसी भी होम्योपैथिक स्टोर से प्राप्त किया जा सकता है।

Loading...
SHARE
Previous articleहेक्ला लावा [ Hekla Lava Homeopathic Medicine In Hindi ]
Next articleजैबोरैंडी होम्योपैथिक मेडिसिन [ Jaborandi Homeopathic Medicine In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here