हैलियांथस [ Helianthus Annuus Homeopathy In Hindi ]

0
108
Helianthus Annuus

इसमें भी ठीक लैपटेण्ड्रा के समान काले रंग का दस्त होता है, पर जो बहुत दिनों से सविराम ज्वर इत्यादि भोग रहे हों और जिनका पेट प्लीहा से भरा हो, उनकी बीमारियों में – यह अधिक फायदेमंद है। पाकस्थली की किसी भी बीमारी में वमन, मिचली, उत्ताप से उपसर्गों का बढ़ना और वमन से घटना, काले रंग के दस्त ( black stools ), मुंह में सूखापन इत्यादि लक्षण पाए जाएं तो हैलियांथस का प्रयोग करें।

सर्दी, जुकाम, नजला, नकसीर तथा नाक के अंदर मोटी पपडियां। सविराम ज्वर की जीर्ण अवस्थाएं। बाएं घुटने में आमवाती दर्द, वमन, काला पाखाना, त्वचा की लाली व गर्मी। इसके रोगी के गर्मी से लक्षण बढ़ जाते हैं और वमन हो जाने पर घट जाते हैं। आमाशयिक लक्षणों पर जब मितली और वमन की अवस्था गतिशील रहती है तब यह औषधि प्रभावी क्रिया करती है। मुंह खुश्क, काला पाखाना। कैलेण्डुला और आर्निका के समान ही इसका बाह्य प्रयोग भी किया जाता है।

मात्रा – पहली शक्ति से 30 शक्ति तक।

Loading...
SHARE
Previous articleलैपटेण्ड्रा [ Leptandra Virginica Materia Medica In Hindi ]
Next articleलेसिथिन [ Lecithin Homeopathy Uses, Benefits & Side Effects In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here