होम्योपैथी पेन किलर [ Homeopathy Pain Killer In Hindi ]

0
958

कभी-कभी सभी को किसी भी प्रकार का दर्द हो जाया करता है। कुछ लोग उसे इग्नोर करते हैं और कुछ लोग पेन किलर का इस्तेमाल करते हैं। परन्तु पेन किलर किडनी पर बहुत बुरा असर डालती है। इस पोस्ट में हम एक होम्योपैथिक कॉम्बिनेशन के बारे में जानेंगे को कि दर्द निवारक दवा है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट नहीं है।

दर्द होना कोई बीमारी नहीं है बल्कि अन्य बीमारियों का लक्षण होता है। हड्डियों, मांसपेशियों, नसों इत्यादि से सम्बंधित बीमारियों में हमें दर्द हुआ करता है। कभी-कभी अकस्मात चोट लग जाने के कारण भी दर्द हुआ करता है या पुराने चोट के कारण भी दर्द उभर आता है। एक ऐसा पेन फार्मूला जो हर तरह के दर्द में काम आता है और इसका उपयोग आप कभी भी कर सकते हैं।

सबसे पहले होम्योपैथिक पेन किलर के कंपोनेंट्स के बारे में समझते हैं : – Rhus tox 6ch, Bryonia Alba 6ch, Arnica Montana 6ch, Magnesia phosphorica 6ch

इन सभी दवा का अपना एक विशेष लक्षण और महत्व है जिसे जानना जरुरी है।

Rhus Tox 6 ch – यह एक दर्द निवारक दवा है और होम्योपैथी में पेन किलर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आराम करने पर दर्द का बढ़ जाना इस दवा का मुख्य लक्षण है। काम करते समय या चलने फिरने से दर्द में कमी रहता है, ठण्ड या नमी वाले मौसम में दर्द का बढ़ जाने पर यह दवा बहुत अच्छा काम करता है। कमर दर्द, घुटनों में सूजन और दर्द, जोड़ों में दर्द होने पर इसका इस्तेमाल अवश्य किया जाता है।

Bryonia Alba 6 ch – यह दवा भी बहुत अच्छा काम करती है दर्द के केस में और इसका इस्तेमाल भी पेन किलर के रूप में किया जाता है। इसका लक्षण Rhus tox दवा के विपरीत होता है। अगर चलने-फिरने से दर्द बढ़ जाए और लेटने से दर्द में राहत मिले तो यह दवा बहुत अच्छा काम करता है। इस दवा के लक्षण में दर्द की जगह दबाने से आराम महसूस होता है।

Magnesia Phosphorica 6 ch – यह दवा नसों के दर्द में अच्छा काम करती है। सियाटिका का दर्द हो, कमर दर्द हो, न्यूरेल्जिया में या किसी भी कारण कैसे भी दर्द में यह मेडिसिन अच्छा असर दिखती है।

Arnica Montana 6 ch – यह मेडिसिन ब्लड सर्कुलेशन को अच्छा करता है। यह नर्व पेन में, ओस्टियोआर्थराइटिस में, ब्लड क्लॉट के कारण होने वाले दर्द में, चोट या मोच लगने के कारण होने वाले दर्द में बहुत अच्छा असर करती है।

अब यहाँ जानेंगे कि कैसे इन मेडिसिन को इस्तेमाल करना है। सबसे पहले होम्योपैथिक स्टोर से ऊपर बताये गए चारों दवाओं को 6CH पोटेंसी में 30ML की खरीदनी है। इसके अलावा एक 100ML की खाली बोतल भी वहाँ से खरीद लेनी है। खाली बोतल में सभी दवाओं को बराबर मात्रा में डाल लेना है। कुछ देर बोतल को हिलने के बाद एक उत्तम होम्योपैथिक पेन किलर तैयार हो जाता है।

एक्यूट केस में तैयार पेन किलर की दो से चार बून्द हर घंटे जीभ पे टपकाना है। दर्द में आराम होते ही दिन में तीन बार दवा का इस्तेमाल कुछ दिन तक करें। चोट, मोच या तुरंत होने वाले दर्द में इसका इस्तेमाल करें।

अगर किसी प्रकार का दर्द लम्बे समय से चला आ रहा हो तो इस मेडिसिन की दो से चार बून्द दिन में 3 बार – सुबह, दोपहर और शाम में जीभ पर टपकाएं। मेडिसिन का इस्तेमाल कम से कम एक महीने तक जरूर करें, आपका दर्द पूरी तरह ठीक हो जायेगा। पेट दर्द में भी इसके इस्तेमाल से तुरंत आराम मिल जाता है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here