गर्भावस्था में नींद न आने का होम्योपैथिक इलाज

0
99

गर्भावस्था में नींद न आने के लक्षणों में निम्नलिखित औषधियों को दें :-

एकोनाइट 6, 30 – भय अथवा मानसिक-उत्तेजना के कारण नींद न आना, त्वचा पर खुश्की तथा गर्मी, गर्भिणी की घबराहट, बेचैनी, अशान्ति, छोटी सी बात से ही परेशान हो जाना तथा मानसिक कष्ट के कारण बिस्तर पर करवट बदलते रहना आदि लक्षणों में दें ।

इग्नेशिया 200 – दु:ख, शोक, चिन्ता एवं मानसिक-खिन्नता के कारण नींद न आने पर इसे दें ।

नक्स-वोमिका 30 – मानसिक-तनाव अथवा कॉफी, शराब आदि के सेवन के कारण नींद न आना, सायंकाल नींद आना, परन्तु मध्य रात्रि अथवा प्रातः तीन बजे ही आँखें खुल जाना, पुन: प्रात:काल तक नींद न आना तथा शरीर में भारीपन का अनुभव – इन लक्षणों में इसे दें।

लाइकोपोडियम 30, 200 – दिन में नींद आना, रात में न आना एवं पेट में वायु अथवा अम्ल के कारण नींद न आने के लक्षणों में इसे दें।

काफिया 200 – मानसिक-चिन्ताओं एवं विचार-चिन्तन के कारण नींद न आना, कॉफी पीने के कारण नींद न आना एवं कभी-कभी प्रसन्नता के कारण नींद न आना आदि लक्षणों में यह हितकर है। यह इस रोग की मुख्य औषध मानी जाती है।

बेलाडोना 30 – सिर-दर्द, सिर में गर्मी, सोते से चौंक पड़ना, आँख की पुतलियों का फैल जाना, चेहरे पर लाली, चेहरे तथा सिर में खून चढ़ना एवं सिर की ओर खून का दौरा बढ़ जाने के कारण नींद न आने के लक्षणों में इस औषध को दुहराना पड़ता है ।

सल्फर 30 – रात्रि के प्रथम प्रहर में नींद आना, परन्तु अन्तिम प्रहर में न आना।

ऐकोनाइट 3 – नींद न आने के साथ ज्वर के लक्षण में ।

कैमोमिला 6 अथवा विरेट्रम 6 – पांवों में अकड़न अथवा दर्द के साथ ही नींद न आने के लक्षणों में इसे दें।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here