माइगेल लैसियोडोरा [ Mygale Lasiodora Homeopathy In Hindi ]

0
94
Mygale Lasiodora

[ Cuban spider : एक तरह का मकड़ा ] – कोरिया और सूजाक या उपदंश – दोनों प्रकार के रोगों में इसका सफलतापूर्वक उपयोग होता है।

प्रमेह ( gonorrhoea ) – मूत्रनली में कभी-कभी डंक लगने जैसा दर्द, जलन, पेशाब करने के समय जलन, गरम पेशाब होना और अत्यंत कष्टकर लिंग का कड़ापन, बहुत दिनों तक रहनेवाला प्रमेह – इन उपसर्गों और प्रमेह रोग के लक्षण में माइगेल फायदा करती है।

नर्तन रोग ( chorea ) – समस्त अंग-प्रत्यंग लगातार फड़कते रहना, हाथ या हाथ-पैर दोनों अपने आप हिलते रहना, किसी भी तरह स्थिर नहीं रख सकना, चलने के समय पैर ठीक जगह पर नहीं पड़ना।

पाकस्थली की पीड़ा – मिचली के साथ दृष्टि-शक्ति का कम होना, बहुत ज्यादा प्यास। सोने से रोग में कमी आना, और सुबह में रोग का लक्षण बढ़ना।

पुरुष लिंग में अधिक उत्तेजना और साथ में दर्द जैसे लक्षण में माइगेल लाभ करता है।

सदृश – जिजिया, टैरेन्टुला, एगरिकस।

क्रम – 3 से 30 शक्ति।

Loading...
SHARE
Previous articleम्यूरेक्स [ Murex Purpurea 30 Uses, Benefits In Hindi ]
Next articleमॉर्फिनम [ Morphinum Homeopathic Medicine In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here