Reckeweg R7 Liver And Gall Bladder Drops [ फैटी लिवर और गाल ब्लैडर का होम्योपैथिक दवा ]

0
1061

Reckeweg R7 को Liver and Gallbladder Drops के नाम से भी जाना जाता है। यह दवा लिवर और लिवर के साथ जुड़े हुए गाल ब्लैडर पर अच्छा काम करती है। यह दवा 22 ML की बोतल में सभी होम्योपैथिक स्टोर पे उपलब्ध होती है।

यह दवा लिवर पे अच्छा असर करती है। अगर लिवर में सूजन हो या उसका आकार बढ़ जाये, हेपेटाइटिस में, जॉन्डिस में, लिवर में अगर किसी तरह की गाँठ बन जाए, ज्यादा अल्कोहल के सेवन लिवर में समस्या आ जाए तो भी इस दवा का उपयोग फायदेमंद होता है। इसके अलावा अगर पित्त की थैली में कोई समस्या हो, पित्त की थैली में स्टोन हो जाए तो भी इस दवा का उपयोग किया जा सकता है। इसमें मिली हुई दवा पित्त थैली के स्टोन को निकालने में बहुत मददगार होता है।

सबसे पहले Reckeweg R7 के कंपोनेंट्स को देखते हैं : – Carduus marianus D2, Chelidonium D2, Cholesterinum D6, Colocynthis D6, Lycopodium D4, Nux vomica D4, China D3.

Reckeweg R7 में मिलाए गए हर दवा का अपना एक विशेष लक्षण और महत्व है, जिसके बारे में जानना हमारे लिए महत्वपूर्ण है :-

Carduus marianus – यह दवा लिवर पे बहुत अच्छा काम करती है। अगर बहुत फैटी फूड खाने से फैटी लिवर की समस्या हो जाएं या किसी तरह की सूजन हो जाएं तो यह दवा का उपयोग बहुत लाभ करता है।

Chelidonium – यह मेडिसिन पीलिया रोग में, पित्त थैली के स्टोन में अच्छा काम करती है।

China – होम्योपैथी की शुरुआत ही इस मेडिसिन से हुई थी। यह मेडिसिन हमारे लिवर, गाल ब्लैडर और पेट में बहुत अच्छा काम करती है। अगर बहुत ज्यादा लूज मोशन के कारण शरीर में कमजोरी आ जाए तो ऐसे समय में यह दवा रामबाण सिद्ध होता है।

Colocynthis – बहुत ज्यादा पेट दर्द हो, ऐंठन हो रही हो तो इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है। मैं नॉर्मली 30 पोटेंसी में इसका इस्तेमाल करता हूँ।

Lycopodium – किसी भी तरह की गैस्ट्रिक में इसका इस्तेमाल अच्छा रहता है। यह लिवर पे भी अच्छा कार्य करता है।

Nux vomica – लिवर और गाल ब्लैडर की समस्या के साथ अगर कब्ज की समस्या भी हो तो यह दवा बहुत अच्छा कार्य करता है। अगर रात में पेट सम्बन्धी समस्या बढ़ जाता है तो ऐसे में यह दवा का प्रयोग अवश्य करके देखें।

Cholesterinum – अगर गाल ब्लैडर में स्टोन हो और उसका आकार 20 MM से कम हो तो उसे निकालने में यह दवा सक्षम होता है।

Ethanol – यह हमारे लिवर और गाल ब्लैडर के Impurity को दूर करता है।

रेकवेग R7 की लेने की विधि और मात्रा

( Doses of Reckeweg R7 )

Reckeweg R7 की 10-15 बून्द को आधे कप पानी में डाल कर भोजन के आधे घंटे पहले दिन में तीन बार लें। यही एक हफ्ते में सुधार नहीं हुआ तो दिन में 6 बार 10-15 बूँदें आधे कप पानी डाल कर लें। तकलीफ कम होने पर पुनः दिन में 3 बार लेना शुरू कर दें।

Loading...
SHARE
Previous articleसेंसा रॉयल कैप्सूल [ Sensa Royal Capsule Uses, Benefits, Side effects In Hindi ]
Next articleपतंजलि यौवन चूर्ण के फायदे [ Patanjali Youvan Churna Benefits In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here