Reckeweg R8 And R9 in Hindi [ पुरानी से पुरानी खांसी का होम्योपैथिक दवा ]

0
592

इस पोस्ट में हम Reckeweg R8 और Reckeweg R9 के उपयोग के बारे में जानेंगे। Reckeweg R8 को Cough Syrup और Reckeweg R9 को Cough drops के नाम से भी जाना जाता है। दोनों दवाओं को एक साथ बताने का मकसद सिर्फ इतना है कि दोनों खाँसी के लिए अच्छी मेडिसिन है और इसके कम्पोनेंट्स एक जैसे हैं।

सबसे पहले Reckeweg R8 और Reckeweg R9 के कंपोनेंट्स को देखते हैं : – Ammonium causticum D2, Belladonna D2, Bryonia D2, Chamomilla D2, Coccus Cacti D5, Corallium rubrum D10, Cuprum aceticum D10, Drosera rotundifolia D2, Ipecacuanha D3, Thymus vulgaris D2, Saccharum Album, Saccharum Tostum.

Reckeweg R8 और Reckeweg R9 में डाले गए हर एक दवा का अपना एक विशेष लक्षण है, जिसके बारे में समझना हमारे लिए जरुरी है :-

Ammonium causticum – गले में मरोड़ या ऐंठन जैसा अनुभव के साथ अगर कफ, खांसी हो रही हो तो यह दवा बहुत अच्छा काम करती है।

Belladonna – इस दवा का उपयोग हम सर्दी, खांसी, जुकाम में करते ही हैं, बार-बार खांसी आना, सूखी खांसी आना, कुकुर खांसी आना जैसे लक्षण में इस दवा के उपयोग से बहुत लाभ होता है।

Bryonia – इस दवा लक्षण में हमेशा खांसी की समस्या रहती है, सूखी खांसी आती है, चेस्ट भारी-भारी सा जकड़ा हुआ महसूस होता है।

Chamomilla – बार-बार सूखी खांसी होना और रात में खांसी में वृद्धि होना, रोगी का इस परेशानी से बहुत चिड़चिड़ा हो जाना जैसे लक्षण में यह दवा अच्छा काम करती है।

Coccus Cacti – बलगम वाली खांसी में यह मेडिसिन अच्छा काम करती है। अगर खांसते-खांसते मुँह में कफ आ जाता हो तो इस मेडिसिन का स्मरण करें।

Corallium rubrum – खांसी-खांसते ऐसा महसूस हो कि सांस नहीं लिया जा रहा, दम घुट रहा हो तो ऐसे लक्षण में यह दवा अच्छा कार्य करता है।

Cuprum aceticum – बलगम वाली खांसी में, गले में खराश और साथ में खांसते-खांसते दम घुटता सा महसूस हो, सांस नहीं लिया जाए तो यह मेडिसिन लाभ करता है।

Drosera rotundifolia – इसके लक्षण में खांसते-खांसते गले में ऐंठन होने लगती है, सांस नहीं लिया जाता और चेहरा नीला पड़ जाता है तो ऐसे में यह दवा लाभ करता है।

Ipecacuanha – खांसते-खांसते अगर उल्टी जैसा महसूस होने लगे या हो जाए तो ऐसे में यह मेडिसिन उल्टी आने की प्रवृति को शांत करता है।

Spongia Tosta – इसके लक्षण में ऐसा महसूस होता है कि गले में कुछ बलगम जैसा अटका हुआ है और रात में इसके लक्षण बढ़ जाते हैं।

Thymus vulgaris – बलगम को बाहर निकालने में यह औषधि अच्छा काम करती है।

रेकवेग R8/R9 लेने की विधि और मात्रा

( Doses of Reckeweg R8/R9 )

अगर बहुत ज्यादा खांसी हो रही है तो Reckeweg R8 की एक चम्मच हर एक से दो घण्टे पर लें। इसे लेने के 15 मिनट बाद Reckeweg R9 की 15 बून्द को आधे कप पानी में डाल कर लें। दोनों दवाओं के क्रमशः इस्तेमाल से आपकी खांसी तुरंत ठीक हो जायेगा। खांसी में आराम मिलते ही फिर दोनों दवाओं का इस्तेमाल दिन में तीन बार करें। पुरानी से पुरानी खांसी में भी यह दवा अच्छा काम करती है।

Reckeweg R8 150 ML के बोतल में उपलब्ध है और इसका मूल्य करीब 407 रूपए है। Reckeweg R9 22 ML के बोतल में उपलब्ध है और इसका मूल्य करीब 220 रूपए है।

Loading...
SHARE
Previous articleपतंजलि यौवन चूर्ण के फायदे [ Patanjali Youvan Churna Benefits In Hindi ]
Next articleएनल फिशर का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Anal Fissure In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here