Solanum Xanthocarpum Uses [ गला बैठने का होम्योपैथिक दवा ]

0
493

इसका हिंदी नाम भटकटैया या रेंगनी है। यह दीर्घकाल से हमारे देश में औषधि के रूप में उपयोग होता आ रहा है। कण्ठरोग में यह विशेष लाभदायक है। हर प्रकार के स्वरभंग विशेषकर शिशुओं के स्वरभंग के साथ सर्दी-खांसी में यह अधिक लाभदायक है।

शिशुओं के न्युमोनिया, ब्रोंकाइटिस प्रभृति के बाद सूखी कष्टदायक खांसी व उसके साथ स्वरभंग रहने पर इससे शीघ्र ही फायदा होता है। प्यास, कै, अरुचि, खाँसी, छाती के दोनों बगल दर्दजनित नए ज्वर में, मूत्र बंद व मूत्र पथरी रोग में भी उपकारी है।

गला बैठ जाए तो इस मेडिसिन की मदर टिंक्चर की 10 बून्द आधे कप पानी में डाल कर दिन में 3 बार लें, गला ठीक हो जायेगा।

Loading...
SHARE
Previous articleटिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया [ Tinospora Cordifolia In Hindi ]
Next articleएण्डरसोनिया रोहितका [ Andersonia Rohitaka In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here