फेफड़े की रचना [ Structure Of The Lungs In Hindi ]

1,583

हमारी (मानव) की छाती में दो फुफ्फुस अर्थात् फेंफड़े होते हैं:-

(1) दाँया तथा (2) बाँया।

दाँया फेंफड़ा बाँये फेंफड़े से एक इंच छोटा (पर कुछ अधिक चौड़ा) होता है। दाँये फेंफड़े का औसत भार 23 औंस और बाँयें फेफड़े का औसत भार 19 औंस होता है। पुरुषों के फेफड़े-स्त्रियों के फुफ्फुसों से कुछ भारी होते हैं। ये चिकने और कोमल होते हैं। इनके भीतर अत्यन्त सूक्ष्म अनन्त कोष्ठ होते हैं जिनको ‘वायु कोष्ठ’ (Air Cells) कहते हैं। इन वायु कोष्ठों में वायु भरी होती है। फेफड़े इतने हल्के होते हैं कि ये जल में भी तैर जाते हैं। बाल्यावस्था में फेंफड़ों का रंग कुछ लाल, युवावस्था में मटमैला और वृद्धावस्था में गहरे रंग का स्याहीमायल हो जाता है। ये भीतर से स्पंज (Spongy) समान होते हैं।

 

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.