अकरकरा के गुण – अकरकरा के लाभ

1,174

परिचय : 1. इसे आकरकरम (संस्कृत), अकरकरा, (हिन्दी), आकरकरा (बंगला), अक्कलकाढा (मराठी), अकोरकरो (गुजराती), अक्किरकरम (तमिल), अकरकरम (तेलुगु) तथा एनासायक्लस पाचरे (लैटिन) कहते हैं।

2. इसका पौधा काण्ड पर ग्रन्थियों तथा रोमवाला होता है। जड़ 3-4 इंच लम्बी और आधी इंच या उससे कम मोटी होती है।

3. आजकल यह बंगाल (भारत) में अधिक मिलता है।

रासायनिक संघटन : इसमें पायरेथ्रीन नामक एल्केलायड तथा एक उड़नशील तेल होता है।

अकरकरा के गुण : यह स्वाद में चरपरा, पचने पर कटु, रूखा, तीक्ष्ण तथा गर्म है। इसका मुख्य प्रभाव प्रजनन-संस्थान पर बाजीकरण रूप में पड़ता है। यह उत्तेजक, पीड़ाहर, शोथहर, कीटाणुहर, लालस्रावक्षोभक, अग्नि-दीपक, रक्तशोधक, कफहर, कण्ठ को हितकर, मूत्रजनक तथा कटु पौष्टिक है।

अकरकरा के प्रयोग

वातरोग : अपतानक, पागलपन तथा विभिन्न वातरोगों में इसके चूर्ण का प्रयोग किया जाता है। वात-शूल में इसका चूर्ण तेल में मिलाकर मलना चाहिए। यह पक्षाघात, आर्दिन आदि में भी गुणकारी है।

दाँत-मसूड़ों के रोग : इसका महीन चूर्ण कर मंजन किया जाता है। कण्ठ-प्रकोप में इसका लेप करते हैं। जिह्वास्तम्भ तथा स्वरभेद में इसके टुकड़े करके चूसना चाहिए।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें