अजीर्ण रोग और उससे सम्बंधित होम्योपैथिक दवा

686

किसी भी कारणों से अजीर्ण रोग हो सकते हैं, यहाँ कारण और अजीर्ण रोग की होम्योपैथिक दवा दी गई है।

सर्दी लगने के कारण उत्पन्न हुए अजीर्ण में – मर्क, एकोन तथा डल्कामारा-1

शोक-दु:खादि जनित अजीर्ण में – इग्नेशिया।

नये अजीर्ण-रोग में – नक्स-वोम, आर्सेनिक तथा ब्रायोनिया ।

वमन अथवा पतले दस्तों के साथ सिर-दर्दयुक्त नवीन अजीर्ण में – आइरिस ।

पुराने अजीर्ण में – नक्स-वोम, कार्बो-वेज, पल्स, सल्फर, आर्स, ब्रायो, हिपर-सल्फर, केल्के-कार्ब, मर्क, आर्निका, कालि-बाई, एण्टिम-क्रूड तथा लाइको ।

मानसिक भावों की अधिकता के कारण उत्पन्न अजीर्ण में – नक्स-वोम ।

काम-काज की चिन्ता तथा रात्रि-जागरण के कारण उत्पन्न हुए अजीर्ण रोग में – इग्नेशिया।

रस-रक्त का क्षय तथा पतले दस्तों वाले, कमजोरी के कारण उत्पन्न हुए अजीर्ण-रोग में – फेरम, चायना, एसिड-फॉस ।

मुँह से पानी निकलने के लक्षणों वाले अजीर्ण में – कार्बो-वेज 3x वि०, नक्स-वोम 30, लाइकोपोडियम 30 तथा ब्रायोनिया 6 ।

भूख कम हो जाने वाले अजीर्ण में – फेरम, चायना तथा कैल्के-कार्ब।

राक्षसी-भूख वाले अजीर्ण में – साइना तथा चाइना।

सीने में जलन वाले अजीर्ण में – कार्बो-वेज 6, कैल्के-कार्ब 6, पल्सेटिला 6, नक्स-वोम 30 तथा कैप्सिकम 6 ।

दुर्गन्धित डकारों वाले अजीर्ण में – सल्फर 30 तथा कार्बो-वेज 6।

अम्ल-रोग में – एसिड-सल्फ 2x, 30, कैल्के-कार्ब 6, 30, रियुम 30, फास्फो 3, रोबिनिया 3, नेट्रम-फॉस 2x, 12x वि० । इनके अतिरिक्त ‘कैरिका पेपेया Q‘ को 5 से 10 बूंद तक की मात्रा में भोजन के बाद सेवन करायें ।

हिचकी वाले अजीर्ण में – नक्स-वोम, कोलोफाइलम, जेलसिमियम तथा आर्सेनिक । ‘एसिड-फॉस’ – (यदि अम्ल-रोग के साथ में हिचकी भी हो) ।

छाती दबने के सपने वाले अजीर्ण में – चायना (यदि स्वप्न में सीने पर अधिक दबाव का अनुभव होता हो), सल्फर (यदि स्वप्न में कलेजा अधिक धड़कता हो) तथा नक्स-वोम 1x, 30 – (यदि नशा सेवन करने अथवा अजीर्ण के कारण स्वप्न आते हों) ।

टिप्पणी – कैल्के-कार्ब के सेवन के समय बीच-बीच में आयोडियम 6 तथा पेट्रोलियम 6 देने की आवश्यकता भी पड़ती है ।

अजीर्ण के कारण उत्पन्न हुए सिर के चक्कर में निम्नलिखित औषधियाँ दें – पल्सेटिला, ब्रायोनिया, नक्स-वोमिका आदि ।

अत्यधिक मानसिक-परिश्रम के कारण मस्तक के दुर्बल हो जाने तथा सिर में चक्कर आने पर निम्नलिखित औषधियाँ हितकर सिद्ध होती हैं :- चायना, जिंकम, एसिड-फास, फास्फोरस ।

मस्तक में खून जमा होने के कारण सिर में चक्कर आने पर निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करना चाहिए – ग्लोनाइन, जेल्स, काक्यू, बेल आदि ।

 

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?