गर्भवती महिला को चक्कर आने की दवा

0
321

गर्भावस्था में चक्कर आने के लक्षणों में निम्नलिखित औषधियों को दें :-

जेल्सीमियम 3, 30 – यह इस रोग की श्रेष्ठ औषध है। सिर की गुद्दी से चक्कर उठने में विशेष हितकर है ।

लैकेसिस 30 – सोकर उठने के बाद चक्कर आने में ।

Loading...

नेट्रम-म्यूर 30 – लेटे हुए चक्कर आने में ।

ब्रायोनिया 30 – सिर को किसी ओर घुमाने या हिलाने से चक्कर आने में।

कोनियम 30 – सिर को एक ओर घुमाने अथवा लेटे हुए चक्कर आने में ।

पेट्रोलियम 3, 30 – बैठी हुई स्थिति से उठते समय चक्कर आने में ।

काक्युलस 30 – गाड़ी या जहाज पर चढ़ने अथवा लेटी हुई हालत से उठकर बैठते समय चक्कर आने में ।

बेलाडोना 30 – बिस्तर पर करवट बदलते समय अथवा लेटी हुई हालत से उठकर बैठते समय चक्कर आने में ।

बोंरक्स 3x – नीचे की ओर जाने से चक्कर आने में ।

कैल्केरिया-कार्ब 30 – ऊँचाई पर चढ़ते समय अथवा ऊपर को देखते समय चक्कर आने में ।

पल्सेटिला 30 – ऊपर देखते समय चक्कर आने में ।

साइलीशिया 30 – ऊपर देखते समय चक्कर आने में ।

फॉस, सल्फर, स्पाइजीलिया – नीचे की ओर देखते समय चक्कर आने में – इनमें से किसी एक औषध का लक्षमानुसार प्रयोग करें ।

मानसिक कष्ट में निम्नलिखित होम्योपैथिक दवा का प्रयोग करें :-

सिमिसिफ्यूगा 3, 30 – चित्त में म्लानता, मानसिक दु:ख तथा प्रसव के समय होने वाले कष्ट का भय होने पर ।

पल्सेटिला 3, 30 – जरा-जरा सी बात पर रो पड़ना, कभी-कभी क्रोध करना तथा भावी प्रसव-कष्ट का भय, सहानुभूति की भूख, ईर्ष्यालुता, सन्देहशीलता, रात में बेचैनी तथा परेशान होकर घूमने लगना आदि लक्षणों में प्रयोग करें ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

इग्नेशिया 6 – शोक से अधीर होने पर, कभी रोना, कभी हँसना, बेतुकी बातें करना आदि लक्षणों में दें ।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here