चकवड़ के गुण

826

परिचय : 1. इसे चक्रमर्द (संस्कृत), चकवड़-पंबाड़ (हिन्दी), चाबुका (बंगाली), टाकला (मराठी), कुवाडिपो (गुजराती), तधरे (तमिल), तगिरिसे (तेलुगु), कुल्व (अरबी) तथा कैसिआ टोरा (लैटिन) कहते हैं।

2. इसका पौधा 2-5 फुट ऊँचा, एक वर्ष तक रहनेवाला और दुर्गन्धित होता है। पत्ते तीन जोड़े फाँकों से युक्त 1-1 इंच लम्बे होते हैं, जो रात में आपस में मिल जाते हैं। फूल पीले रंग के होते हैं। फली पतली और 4-6 इंच लम्बी होती है। बीज 20-30 की संख्या में कत्थई रंग के होते हैं।

यह सम्पूर्ण भारत में, विशेषत: गरम प्रदेशों में होता है।

रासायनिक संघटन : इसके बीजों में क्राइसोफेनिक एसिड की तरह एक ग्लुकोसाइड होता है। पत्तों में कथार्टीन के समान एक रेचक तत्त्व, कुछ खनिज और रंजक द्रव्य मिलते हैं।

चकवड़ के गुण : यह स्वाद में कटु (बीज में), कुछ मीठा (पत्ती में), पचने पर कटु तथा हल्का, रूक्ष एवं गर्म होता है। इसका मुख्य प्रभाव त्वचा-ज्ञानेन्द्रिय पर कुष्ठध्न (अनेक चर्मरोग-नाशक) पड़ता है। यह मेदहर, विषनाशक, नाडीबलकारक, रेचक, कृमिनाशक, कफनि:सारक, हृदय-बलकारक तथा यकृत-उत्तेजक है।

प्रयोग : 1. सिध्मकुष्ठ : चकवड़ और राल का कांजी के साथ लेप करने से सिध्मकुष्ठ में लाभ होता है।

2. शिर:शूल : इसके बीजों को नीबू में पीसकर सिर-दर्द पर लगाना चाहिए। आध-शीशी के दर्द पर बीजों का नस्य भी लाभ करता है।

3. दाद : चकवड़ के बीज उसके मूल के स्वरस में पीसकर दाद पर लेप करने से तुरन्त लाभ होता है। इन्हें नीबू या दही में भी पीसकर लगा सकते हैं।

4. वातरोग : वातरोगों में सरसों के तेल में चकवड़ के पत्तों का शाक भुनकर खिलायें। लेकिन ध्यान रहे कि इसे अधिक खाने से दस्त होने लगते हैं।

5. शीघ्र-प्रसव : चकवड़ की जड़ पीसकर योनि में रखने से शीघ्र प्रसव हो जाता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.