बार बार पेशाब आना का इलाज – रात में बार बार पेशाब आना

0
2057

इस पोस्ट में बार बार पेशाब आना, रात में पेशाब करने के लिए बार-बार उठना, पेशाब का देर से निकलना और जलन का होम्योपैथिक दवा बताया गया है।

बार-बार पेशाब जाने के लक्षणों में निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करना चाहिए :-

पल्सेटिला 30 – बार-बार पेशाब जाना, लेटने पर पेशाब जाने की इच्छा में वृद्धि, मूत्र-त्याग के समय तथा बाद में मूत्र-मार्ग के मुख में जलन, मूत्र-त्याग के पश्चात् मूत्राशय में ऐंठन के साथ दर्द, रोगी द्वारा मूत्राशय पर ही ध्यान केन्द्रित रखना, अन्यथा पेशाब का अपने-आप निकल जाना-इन सब लक्षणों में हितकर है ।

Loading...

बेसिकेरिया Q – मूत्राशय तथा मूत्र-मार्ग में जलन, बार-बार पेशाब जाने की इच्छा तथा पेशाब करते समय प्राय: कष्ट होना-इन लक्षणों में हितकर है ।

सेबाल सेरूलाटा Q, 3 – रात के समय पेशाब करने के लिए बार-बार उठने की शिकायत में हितकर है। प्रोस्टेट-ग्रन्थि के बढ़ जाने के कारण पेशाब के बार-बार तथा रुक-रुक कर आने के लक्षणों में इस औषध का ताजा मूल-अर्क विशेष लाभ करता हैं ।

नक्स-वोमिका 30, 200 – अपच के कारण बार-बार पेशाब में हितकर है।

आर्जेण्टम-नाइट्रिकम 3, 30 – बार-बार बहुत-सा पेशाब आने में लाभकारी।

कालि-कार्ब 30, 200 – रात में पेशाब करने के लिए बार-बार उठना, परन्तु पेशाब होने के लिए काफी देर तक प्रतीक्षा करना-इन लक्षणों में हितकर है।

कास्टिकम 30 – वृद्ध व्यक्तियों में रात में बार-बार पेशाब जाने के लिए उठना-इन लक्षणों में लाभकर है।

इग्नेशिया 200 – हिस्टीरिया ग्रस्त रोगी के बार-बार पेशाब जाने की इच्छा में श्रेष्ठ लाभ करती है ।

इक्विसेटम Q, 6 – पेशाब जाने की तीव्र इच्छा का लगातार बने रहना, पेशाब कर चुकने पर भी ऐसा लगना कि मूत्राशय मूत्र से भरा हुआ है। पेशाब करने के बाद भी राहत न मिलना, मूत्राशय में दर्द होना, मूत्र-त्याग की उत्कट इच्छा होते हुए मूत्र का कम परिमाण में निकलना, मूत्र-त्याग के पश्चात् दर्द का अनुभव, मूत्राशय में दर्द तथा वृद्ध लोगों में पेशाब जाने की इच्छा का हर समय बने रहना – इन सब लक्षणों में लाभ करती है ।

लिलियम टिग्रिनम 30 – पेशाब जाने की तीव्र इच्छा तथा जननांग पर भार की अनुभूति-इन लक्षणों में लाभकारी है। स्त्रियों के लिए यह विशेष हितकर है।

हाइड्रोफोबिनम (लाइसीन) 200 – बहते हुए पानी को देखकर पेशाब करने की इच्छा-इन लक्षणों में प्रयोग करें ।

सल्फर 1M, कैन्थरिस – यदि हाइड्रोफोबीनम से लाभ न हो तो इन दोनों औषधियों में से किसी एक का प्रयोग करना चाहिए ।

थूजा 30 – पेशाब जाने की तीव्र इच्छा का बार-बार होना, पेशाब किये बिना रुक न पाना, परन्तु पेशाब की धार कमजोर होना, पेशाब कर चुकने के बाद ऐसा अनुभव होना कि मूत्र-मार्ग में अभी एक बूंद और शेष रह गई है । इन लक्षणों के साथ ही रोगी को चक्कर आना, ऐसी अवस्था में यह औषध विशेष लाभ करती है ।

पेट्रोसेलीनम 3 – पेशाब जाने की एकदम तीव्र इक्छा होना, यदि तुरंत ही पेशाब करने के लिए न बैठा जाय तो पेशाब का अपने आप निकल जाना तथा मूत्रमार्ग में काटने जैसा दर्द होना – इन लक्षणों में लाभदायक हैं ।

नेट्रम-म्यूर 30 – पेशाब करने की तीव्र इच्छा होने पर भी पेशाब का अल्प परिमाण में आना-इन लक्षण में प्रयोग करें ।

कोनियम 30, 200 – जरायु के स्नायु-शूल में पेशाब करने की तीव्र इच्छा का निरन्तर बना रहना – इन लक्षणों में प्रयोग करें । यह औषध स्त्रियों के लिए विशेष हितकर हैं ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

अर्जेण्टम मेट 6x, 30 – मल तथा मूत्र दोनों की तीव्र इच्छा होने पर इस औषध के सेवन से लाभ होता है ।

Loading...