सिर में चक्कर के साथ मिचली का होम्योपैथिक दवा

441

[ एक तरह के मकड़े से तैयार होता है ] – कण्ठमाला और यक्ष्मा के रोगी की यह बढ़िया दवा है। थाइसिस की पहली अवस्था में इसका व्यवहार होने पर इससे बहुत कुछ फायदा होने की सम्भावना रहती है। थेरिडियन – आँख के उपरी भाग में टपक का दर्द, सिर में चक्कर आने के साथ-ही-साथ मिचली और जरा भी हिलने- डुलने से वमन, आँख बंद करने या जरा से गाड़ी चलने पर जी मिचलाने लगना और वमन, बाईं ओर छाती के ऊपरी भाग में और बाईं तैरती पसली ( floating rib) की जगह पर दर्द, हृत्पिण्ड में दर्द, मेरुदण्ड में दर्द, इसलिए पीठ में सहारा लगाकर बैठ न सकना, थोड़ी भी आवाज या एक कदम चलने पर ही दर्द का बढ़ जाना, अस्थि-क्षत ( caries ) नेक्रोसिस प्रभृति अस्थि-क्षत के साथ शरीर की प्राय: सभी हड्डियों में दर्द प्रभृति उपसर्ग इससे आरोग्य हो जाते हैं। डॉ० बैरुच अस्थि-क्षत में ( नेक्रोसिस ), किसी तरह फायदा न पाने से-बीच में थेरिडियन की 1 मात्रा दिया करते थे।

रोग में वृद्धि – छुने पर, दबाव से, जलयात्रा से, गाडी में सवारी करने पर, आँख बन्द करने और झटका लगने, रोग बाईं ओर।

क्रम – 6, 200 शक्ति ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?