Abroma Radix Homeopathy [ पीरियड्स की समस्या का होम्योपैथिक दवा ]

2,392

यह ओलक ताम्बूल की खास जड़ व जड़ की छाल से तैयार होता है। पुराने ज़माने में इसके रस का इस्तेमाल रजःस्राव में होने वाले दर्द में किया जाता था। बाद में डॉ डी. एन. राय ने इसकी परीक्षा होमियोपैथी में की। एब्रोमा रैडिक्स और एब्रोमा ऑगस्टा एक ही प्लांट से निकाला गया रस है। ओलक ताम्बूल की पत्ती से एब्रोमा ऑगस्टा मदर टिंचर बनता है और ओलक ताम्बूल की जड़ व जड़ की छाल से एब्रोमा रैडिक्स का मदर टिंचर बनता है।

अगर पीरियड समय से नहीं आता, कभी ज्यादा कभी कम होता है, रक्तस्राव ज्यादा होता है, कभी समय से पहले आ जाता है तो कभी 3 महीने आता ही नहीं तो एब्रोमा रैडिक्स बहुत अच्छा कार्य करती है। पीरियड के पहले, बाद में और होने रहने के दौरान बहुत दर्द होता है तो उसमे भी एब्रोमा रैडिक्स अच्छा काम करती है।

लिकोरिया में भी यह दवा लाभदायक है, अगर सफेद पानी निकलने की समस्या है तो एब्रोमा रैडिक्स अवश्य इस्तेमाल करें और साथ में Biocombination No. 13 लेंगे तो बहुत फायदा होगा।

एब्रोमा रैडिक्स का एक लक्षण है कि पीरियड में रक्तस्राव या तो बहुत ज्यादा होता है या बहुत कम होता है, अर्थात रक्तस्राव या तो 7-8 होता है या 1 दिन भी ठीक से नहीं होता।

मात्रा – एब्रोमा रैडिक्स Q की 20 बून्द आधे कप पानी में डालकर दिन में 3 बार लेना है। इसे खाली पेट 3 से 4 महीने पीने से ऊपर के सभी लक्षण ठीक हो जाते हैं। यह प्लांट किंगडम की मेडिसिन है और इसके कोई भी साइड इफेक्ट्स नहीं हैं।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें