एग्राफिस नूटैन्स (Agraphis Nutans Uses In Hindi)

859

एग्राफिस नूटैन्स का होम्योपैथिक उपयोग और लाभ

प्रमुखतया सारे शरीर की ढीली-ढीली अवस्था और ठन्डी हवा के झोंके लगने से सर्दी जुकाम के हो जाने का स्वभाव। शरीर और मन आलस से भरा होना।

प्रतिथ्ययी अवस्थायें नथूने बंद। कंठशालूक (adenoides) के कारण बहरापन। गलतुण्डिकाएँ बढ़ी हुई। सर्दी लगने से श्लेष्मातिसार (Mucous diarrhoea)। ठन्डी हवा से शीतकम्प। गले और कान के रोगों के साथ श्लैष्मिक झिल्लियों से निरंकुश स्राव होने की प्रवृत्ति, बाल्यावस्था का गूंगापन, जिसका बहरेपन से कोई सम्बन्ध नहीं होता।

सम्बन्ध – हाइड्रैस्टिस, सीपा, कैल्केरिया-फास्फो, सल्फ्यूक-आयोड, कैल्केरिया-आयोड से तुलना कीजिए।

मात्रा – तीसरी शक्ति। अर्क की केवल एक मात्रा।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें