आलेट्रिस फैरीनोसा (Aletris Farinosa) – स्त्रियों के प्रदर और कब्ज की होम्योपैथिक दवा

1,951

आलेट्रिस फैरीनोसा का लाभ और उपयोग

अमेरिका के एक प्रकार के पौधे की जड़ से टिंचर तैयार होता है। दुर्बल और क्षीण-शरीर स्त्रियों के गर्भाशय की किसी भी बीमारी के साथ प्रदर और कब्ज रहना और साथ ही पाचन शक्ति का घटना, भोजन के बाद कष्ट, पेट में भार इत्यादि लक्षण रहने पे इससे विशेष लाभ होता है।

यह औषधि बहुदा स्त्रियों के काम आती है, विशेषकर अत्यधिक रक्तस्राव होने पर। ये अत्यधिक रक्तरुनाव मासिक धर्म के साथ हो सकता है या गर्भपात होने के साथ भी हो सकता है। स्त्रियों के गर्भाशय की किसी भी बीमारी के साथ यदि प्रदर, कब्ज, पाचन शक्ति का घटना, भोजन के बाद पेट में वजन मालूम देना आदि लक्षण हो, तो इससे विशेष लाभ होता है।

इसका एक विशेष लक्षण है कि रोगिणी हर समय कुछ काम न करके लेटना पसंद करती है ‘She would like to lie down All day and do nothing But Rest’ रोगिणी का रंग पीला होता है, ऐसी कमजोर महिलाएँ जब गर्भवती होती हैं तो उन्हें पेट का दर्द और वमन आदि से पीडित होना पड़ता है, इस औषधि का ज्ञान होने से पहले उपरोक्त दशा में क्रियोजोट का प्रयोग किया जाता था। डा० कैन्ट ने एक उदाहरण देकर समझाया है कि किसी रोगिणी को बहुत तेजी के साथ आधी रात के समय रक्तस्राव होता था जो इतनी अधिक मात्रा में होता था कि रोगिणी बोलने में भी असमर्थ रहती थी उसे खांसने में चलने से, सोते समय अनेच्छिक मूत्रक स्त्राव हो जाता था, उसे आलेट्रिस फैरीनोसा देने से (45000 शक्ति) वह ठीक हो गयी।

अमाशय एंव मलात्र – रोगी को भोजन में रुचि नही होती, थोड़ा सा भोजन खाने से भी कष्ट होता है रैक्टम अर्थात मलांत्र में मल त्याग की शक्ति समाप्त हो जाती है। जिसके कारण वह मल से सम्पूर्ण रूप से भर जाती है। उसका मल बहुत कठोर एंव लम्बा होता है, जो बड़ी कठिनाई से और दर्द के साथ बाहर निकलता है।

महिलाएँ – नियमित समय से पूर्व एंव अधिक परिमाण में होने वाले ऋतुस्राव के साथ प्रसव जैसी पीड़ा (बेला, कमो, काली-कार्बो, प्लैटी) स्राव रुका हुआ और कम मात्रा में (सेनेशियो)। जरायु भारी मालूम होती है। जरायुभ्रंश के साथ दायें वंक्षण (inguinal) प्रदेश में दर्द। कमजोरी और रक्ताल्पता के कारण प्रदर, गर्भपात की प्रवाणता, सगर्भता के दौरान पेशियों में दर्द।

संबन्ध – हेलोनियस, बार-बार गर्भस्राव और गर्भस्राव के लक्षणों में बाइबर्नम प्रतिफोलियम और बाइबर्नम ओपुलस

मात्रा – Q, 3x व तीन शक्ति।.

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
2 Comments
  1. ruthie davis Heels says

    Way cool! Some very valid points! I appreciate you writing this post and
    the rest of the website is really good.

    1. Dr G.P.Singh says

      Thank for appreciation.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.