Ammonium Phosphoricum Homeopathy Uses And Benefits In Hindi

990

[ फॉस्फेट ऑफ ऐमोनिया ] – वात रोग की पुरानी अवस्था में बहुत से मौकों पर यह दवा फायदा करती है। रोग का प्रथम आक्रमण होने के समय नए प्रदाह में यह बिलकुल ही फायदा नहीं करती।

वात – गठिया वात ( gout ) खासकर अंगुलियों की गाँठों का वात, गाँठ में छोटे-छोटे दानों की तरह सूजन ( nodositis ), गाँठों की विकृति। एमोन फॉस के पेशाब में गुलाबी रंग की तली ( sediment ) पड़ती है।

डॉ फैरिंगटन का कहना है – यह दवा कभी भी रोग की नई अवस्था में तथा दर्द घटाने के लिए कभी व्यवहार में नहीं लानी चाहिए ; किन्तु जब गाँठ में खड़िया के चूर की तरह एक तरह का सफ़ेद पदार्थ ( concretions of urate of soda ) जमने लगे, रोग धातुगत हो जाए, रोग वाली जगह टेढ़ी होकर विकृत अवस्था में जा पहुँचे तभी इसके उपयोग का ठीक समय समझना चाहिए।

स्कन्ध-सन्धि में दर्द – छाती के चारों ओर ऐसा दर्द मानो कसकर बंधा हुआ है, शरीर मानो एक भारी बोझा हो रहा है, चलने के समय पैर ठीक-ठिकाने नहीं पड़ते, मुंह का पक्षाघात, जरा भी ठण्डी हवा लगते ही – सर्दी लग जाना, सवेरे छींक और साथ ही आँख-नाक से लगातार पानी गिरना, खांसी में हरे रंग का बलगम निकलना इत्यादि लक्षणो और रोगों में भी इसका उपयोग होता है।

क्रम – 3x विचूर्ण।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?