इक्विसेटम हाइमेल – Equisetum Hyemale

(1) मूत्राशय पर विशेष प्रभाव – इस औषधि की मूत्राशय पर विशेष क्रिया है। पेशाब करने की बार-बार हाजत होती है, इतनी कि रुका नहीं जा सकता। मूत्राशय में ऐसा दर्द होता है जैसे पूरा भरा हुआ हो, परन्तु मूत्र निकलने के बाद भी मूत्राशय भरा का भरा प्रतीत होता है, और मूत्राशय का दर्द भी बना ही रहता है। मूत्र करने के बाद सख्त दर्द होता है। मूत्र करते समय भी मूत्र-प्रणाली में काटता हुआ जलन सहित दर्द होता है। गोनोरिया के लिये, मूत्राशय से रुधिर निकलने पर इसका सफल प्रयोग किया जाता है। मूत्राशय का सारा प्रदेश छूने से दर्द करता है, यह दर्द अण्डकोश तक अनुभव होता है। वृद्धा स्त्रियों के अपने-आप पेशाब निकल जाने में भी यह औषधि लाभ करती है, इसके प्रयोग से मूत्राशय पर नियन्त्रण हो जाता है। बच्चों के भी दिन या रात को अपने आप पेशाब निकलते रहने पर यह लाभ करती है। कैन्थरिस से लाभ न होने पर इसके प्रयोग से लाभ होता है। मूत्र-प्रणाली की जलन इक्विसेटम तथा कैन्थरिस दोनों में है।

(2) शक्ति – 3, 6, 30

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

equisetum hyemale 200equisetum hyemale 30equisetum hyemale benefits in hindiequisetum hyemale homeopathic remedyequisetum hyemale materia medicaequisetum hyemale medicinal uses in hindi