Hoarseness Treatment In Homeopathy

बहुत जोर से गाना, रोना-चिल्लाना, सर्दी लगना, ज्यादा ठंडे पदार्थ खा लेना आदि कारणों से स्वर-भंग हो जाता है। इसमें रोगी की आवाज धीमी पड़ जाती है । इसे गला बैठ जाना भी कहते हैं ।

कॉस्टिकम 200 – सर्दी लगने की वजह से स्वर-भंग हो जाने पर सर्वप्रथम इसी दवा का प्रयोग करें, जरूर लाभ होगा ।

कार्बोवेज 6, 30 – सर्दी-खाँसी, सुबह और शाम के वक्त रोग बढ़ जाने पर इसका प्रयोग करें |

हिपर सल्फर 6, 200 – गला घरघराने पर लाभप्रद है ।

आर्निका 6, 30 – अत्यधिक रोना-चिल्लाना, गाना गाने की वजह से स्वर-भंग हो जाने पर प्रयोग करनी चाहिये ।

आयोडम 200 – कमजोरी के कारण गला बैठ जाने पर लाभप्रद है ।

कैमोमिला 30 – गले में जलन, प्यास, खाँसी, जुकाम आदि लक्षणों के साथ स्वर-भंग होने पर लाभदायक हैं ।

डल्कामारा 30 – सदी व ठण्ड लगने के कारण रोग होने पर देनी चाहिये।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।