Whooping Cough Treatment – काली खाँसी

इसे कुकर खाँसी, कुत्ता खाँसी और हूप खाँसी भी कहा जाता है। यह खाँसी अधिकांशत: छोटे बच्चों को ही होती है । इस रोग में धीमी खाँसी से शुरु होकर कई दिन बाद खाँसी बहुत बढ़ जाती है और फिर खाँसी दौरे के रूप में उठने लगती है । फिर खाँसी का आक्षेप-सा आने लगता है । खाँसते समय कुत्ते की आवाज आती है । रोगी का चेहरा एकदम लाल हो जाता है, आँखों से पानी आने लगता है और दौरे के बाद रोगी एकदम मुर्दे जैसा निढाल हो जाता है। कुछ चिकित्सकों का मानना है कि यह रोग विटामिन ‘के’ की कमी से उत्पन्न होता है । यह एक संक्रामक रोग है अतः रोगी से अन्य स्वस्थ व्यक्तियों के संक्रमित होने का खतरा बना रहता है।

पटुंसिन 30- यह काली खाँसी की सबसे उत्तम औषधि है । रोग की प्रत्येक अवस्था में इसका प्रयोग किया जा सकता है । इस रोग के लिये इससे श्रेष्ठ कोई दवा नहीं है । –

मिफाइटिस 1x- यह भी काली खाँसी की प्रायः समस्त अवस्थाओं में लाभकारी है ।

ड्रेसेरा 30 और कूप्रम मेट30- इन दोनों दवाओं को सुबह-शाम पर्यायक्रम से देने पर भी लाभ होता देखा गया है ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।