आर्सेनिकम सल्फ्यूरेटम फ्लैवम ( Arsenicum Sulphuratum Flavum Homeopathy In Hindi )

2,123

धवल या श्वेत कुष्ट ( leucoderma ) और उपदंश रोग में शरीर के चमड़े से मछली के चोयटें जैसे दरोरे या चकत्ते निकलने पर कुछ दिनों तक इसका सेवन कराया जाय तो – इस दवा से लाभ होगा।

घुटनों के जोड़ों में दर्द, प्रत्यंग आदि का पक्षाघात की तरह सुन्न पड़ जाना, श्वास-प्रश्वास में कष्ट, स्वरयंत्र का क्षय रोग इत्यादि में यह लाभदायक है।

ऐसा महसूस होता है जैसे छाती में कोई सुई अन्दर से बाहर की ओर निकाली जा रही हो, माथे के दाईं ओर भी ऐसा ही होता है। कान के पीछे बर्छी लगने जैसा दर्द, श्वास लेने में कठिनाई। गुप्त अंगों की निकटवर्ती त्वचा छिल जाती है।

श्वेत कुष्ट एवं पट्ट की उपदंश ( squamous syphilides ) गृघ्रसी ( Sciatica ) तथा घुटनों के चारों ओर दर्द।

शरीर में कमजोरी महसूस करना, कंपन्न होना और लड़खड़ाना इस तरह के रोग में आर्सेनिकम सल्फ्यूरेटम फ्लैवम बहुत लाभ करता है।

मात्रा – 3 शक्ति का विचूर्ण। 6, 30 शक्ति .

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.