Baingan ke fayde in hindi – बैंगन के फायदे

254

प्रकृति – गर्म और खुश्क।

गैस – पेट में गैस बनती हो, पानी पीने के बाद पेट इस प्रकार फूलता हो, जैसे फुटबाल में हवा भर जाती है, तो ताजा लम्बे बैंगन की सब्जी, जब तक मौसम में बैंगन आता रहे, खाते रहें। इससे गैस की बीमारी दूर हो जायेगी। इससे यकृत और तिल्ली बढ़ी हुई हो तो उसमें भी आराम होता है।

हाथ-पैरों में पसीना – बैंगन का रस निकालकर हथेलियों और पगतलियों पर लगाने से पसीना निकलना बन्द हो जाता है।

चोट का दर्द – बैंगन को सेंककर, पीसकर कपड़े में इसकी चटनी डालकर निचोड़कर रस निकालकर चौथाई कप रस में स्वादानुसार गुड़ मिलाकर नित्य दो बार पीने से चोट के दर्द में आराम मिलता है।

अँगुलबेड़ा (Whitlow) – अँगूठा या अँगुली पक रही हो तो बैंगन को भूभल में सेंककर, काटकर पकने वाली जगह बाँधे। इससे सूजन, दर्द दूर हो जायेगा या पकाव लेकर फूटकर मवाद बाहर आ जायेगी।

हृदय – यह हृदय को शक्ति देता है।

बवासीर – बैंगन का दाँड (वह हिस्सा जिससे बैंगन जुड़ा रहता है) को पीसकर बवासीर पर लेप करने से दर्द और जलन में आराम मिलता है। बैंगन का दाँड और छिलके सुखा लें और फिर इनको कूट लें। जलते हुए कोयलों पर डालकर मस्से को धूनी दें। बैंगन को जला लें। इसकी राख शहद में मिलाकर मरहम बना लें। इसे मस्सों पर लगायें। मस्से सूखकर गिर जायेंगे।

हानि – किसी भी प्रकार के ज्वर के समय बैंगन न खायें। बैंगन गर्म होता है। अत: बवासीर व अनिद्रा के रोगी बैंगन न खायें। बैंगन लम्बे समय तक सेवन न करें।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.