बनफशा के फायदे – खाँसी में बनफशा का बहुत फायदेमंद

940

बनफशा का परिचय : 1. इसे वनपुष्पा (संस्कृत), बनफशा (हिन्दी), बनोशा (बंगला), बयिलेट्टू (तमिल), बनफसज (अरबी) तथा वायोला आडोरेटा (लैटिन) कहते हैं।

2. बनफशा का पौधा छोटा, लगभग 4-5 अंगुल का होता है। बनफशा के पत्ते गोल, हृदय के आकार के होते हैं। नीचे का पृष्ठ रोयेदार होता है। बनफशा के फूल गुच्छों में, नीले-बैंगनी रंग के और सुगन्धित होते हैं। बनफशा की जड़ पतली और लम्बी होती है।

3. यह कश्मीर तथा पश्चिमी हिमालय में 5 हजार फुट की ऊँचाई पर मिलता है।

4. इसकी कई जातियाँ अनेक कामों में लायी जाती हैं।

रासायनिक संघटन : इसकी जड़ तथा फूल में वायोलीन नामक वमनकारी पदार्थ रहता है। फूलों में एक उड़नशील तेल, वायोला क्वासिट्रिन नामक पीला पदार्थ, कई रंजक-द्रव्य, शर्करा तथा मेथिल सैलिसिलिक ईस्टर नामक ग्लूकोसायड होता है।

बनफशा के गुण : यह स्वाद में मीठा, कड़वा, पचने पर मीठा तथा हल्का, चिकना और शीतल है। इसका मुख्य प्रभाव श्वसन-संस्थान पर कफहर रूप में पड़ता है। यह दाहशामक, शोथहर, हलका, वामक, विरेचक (वायु-अनुलोमक), रक्त-स्तम्भक और स्वेदजनक है।

बनफशा का प्रयोग

1. पित्तशांति : शरीर में विभिन्न प्रकार की गर्मी, रक्त में तीक्ष्णता तथा तृष्णा शान्त करने के लिए इसका काढ़ा लाभदायक है।

2. खाँसी में बनफशा फायदेमंद : खाँसी, जुकाम तथा श्वास, पार्श्वशूल एवं ज्वर में इसका गर्म काढ़ा देना चाहिए। इससे बहुत लाभ होता है और पेट की शुद्धि भी होती है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?