बिस्मथ ( Bismuth Homeopathy In Hindi )

763

[ एक तरह की धातु और बिस्मथ-सब-नाइट्रेट ] – अन्ननली, पाकस्थली और पाचन यन्त्र की स्नायु पर इसकी प्रधान क्रिया होती है।

चरित्रगत लक्षण :-

  1. रोगी अकेला नहीं रह सकता, साथी चाहता है।
  2. चंचल और उद्विग्न – कभी बैठता है, कभी सोता है, कभी टहलता है और फिर बैठता है ; किसी एक जगह ज्यादा देर नहीं रह सकता।
  3. जल या पतली चीजें पीने और पाकस्थली भर जानेपर वमन और पानी की तरह बदबूदार दस्त होता है।
  4. हैजा में अधिक परिमाण में दस्त और कै होने पर भी बदन गरम रहता है, शीत नहीं आ जाता।

बच्चों के हैजे की बीमारी (Cholera Infantum) में यह एक लाभदायक औषधि है, जब कि रोग यकायक आरम्भ होकर अति अल्प समय के अन्दर हैजे के समस्त लक्षण ग्रहण कर लेता है तब बिस्मथ का प्रयोग होना चाहिए। इस प्रकार का रोगी एक रात्रि में, यहां तक कि चंद घन्टों के अन्दर मृत्युमुख में पतित होता है। बिस्मथ का मल पानी की तरह पतला और अधिक परिमाण में होता है, मल अत्यन्त दुर्गन्धयुक्त होता है और पेट में किसी प्रकार का दर्द नहीं होता। इस प्रकार दस्त के साथ अधिक परिमाण में पानी की तरह उल्टी भी होती है। अत्यन्त प्यास रहती है और पानी पीते ही कै हो जाती है। (Vomiting of water as soon as it reaches the stomach) आर्सेनिक में भी पानी के पेट में पहुँचते ही कै हो जाती है, मगर फ़र्क यह है कि बिस्मथ में केवल जल का ही वमन होता है खाद्य पदार्थ पेट में रहता है, और आर्सेनिक में खाना और पानी जो कुछ पेट में जाता है उन सब की कै हो जाती है। आर्सेनिक और वेरेट्रम की तरह बिस्मथ रोगी बहुत जल्द कमजोर हो जाता है, मगर बिस्मथ रोगी के शरीर में से गर्म पसीना निकलता है और कमजोर हो जाने पर भी शरीर में उत्ताप बना रहता है। चेहरा मृत देह की तरह फीका हो जाता है और आँख के चारों ओर नीला रंग छा जाता है।

पेट के दर्द (Gastralgia) में भी बिस्मथ उपयोगी है। छाती और पेट में जलन होती है, पेट और रीढ़ में दबोचता दर्द होता है, पीछे की ओर झुक कर बैठना पडता है।

पेट के कैन्सर (Cancer) रोग में भी बिस्मथ लाभदायक है, इसका विशेष लक्षण है कि रोगी कभी-कभी एक दिन अधिक परिमाण में वमन करता है और इस वमन के साथ यहां तक कि तीन-चार दिन पहले का खाया हुआ खाना अपच अवस्था में देखा जाता है। आर्सेनिक की तरह बेचैनी अधिक रहती है, रोगी एक स्थान में स्थिर होकर बहुत देर तक नहीं रह सकता; अकेला रहना उसके लिए बहुत ही कठिन हो जाता है।

सम्बन्ध (Relations) – आर्स, आर्जे-नाइट्र, हाइड्रोसि-ऐसिड, कैलि-कार्ब, लाइको और पल्स के साथ तुलना करो।

मात्रा (Dose) – 1 से 6 शक्ति तक।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.