सिनाबेरिस ( Cinnabaris Homeopathy In Hindi )

2,761

यह औषधि पलकों के स्नायुशूल के दर्द और उपदंश रोग से पैदा हुवे घावों में ज्यादा फायदा करती है।

रक्तस्त्राव बहुत लोगों को शायद जानकारी होगी कि कट जाने पर जिससे खून बहता हो, वहाँ सिन्दूर लगा कर पट्टी बांध देने से खून निकलना बन्द हो जाता है। सिनाबेरिस में खून रोकने का गुण होने के कारण नाक से खून निकलने तथा रक्तामाशय और अर्श आदि से रक्तस्राव हो और वह किसी दवा से आराम न होता हो, तो सिनाबेरिस का प्रयोग करने से अवश्य लाभ होगा।

उपदंश प्रमेह लिंग मुण्ड का फुलना, उस पर मस्से, मम्सों से खून निकलना, अण्डकोष का बढ़ जाना। पुराने सुजाक के साथ अण्डकोष बढ़ गया हो।

उपदंश और सुजाक दोनों ही विष रोगी के शरीर में प्रवेश करके उसे कमजोर कर चुके हों। सिफिलिस का घाव अगर लाल रंग का हो, तो सिनाबेरिस का ही प्रयोग करना चाहिए।

आंख आंखों में अश्रुनली से दर्द आरम्भ होकर आँख के चारों ओर कनपटी तक फैल जाता है तथा अन्दरूनी कोण से शुरू होकर भौंह और कान तक चला जाता है। आंखों में कुटकुटाहट और करकराहट होती है सफेद अंश (आंख की कौडी) लाल हो जाती है, पलके सूज जाती हैं देखने की शक्ति कम हो जाती है। पुतलियों में दाग पड़ जाते हैं। इन सब लक्षणों के रहने पर सिनाबेरिस से लाभ होगा।

नाक नाक की जड़ में भार मालूम होता है, नाक की जड़ पर दबाव, पुराने सर्दी जुकाम में गोंद की तरह लेसदार श्लेष्मा इकट्ठा होना, जो नाक के भीतर गले में चला जाता है।

सम्बन्ध हिप्पर, नाइट्रि-एसिड, थूजा, सीपिया से तुलना करो।

मात्रा 1, 3x, 30, और 200 शक्ति।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.