कोपेवा ( Copaiva Officinalis In Hindi )

1,594

इस औषधि का प्रयोग ऐलोपैथिक चिकित्सा में अधिक किया जाता है। साधारणत: मूत्रयंत्र, मूत्रनली और श्वासयंत्र की श्लेष्मिक झिल्ली के ऊपर ही इसकी क्रिया होती है, मूत्रयंत्र और मूत्रनली पर क्रिया होने के कारण इससे सुजाक के नये प्रदाह के लक्षण पैदा हो जाते हैं, इसलिये प्रमेह रोग की पहली अवस्था में जब पेशाब करते समय बहुत जलन, बार-बार पेशाब लगना, दर्द के साथ बूंद-बूंद पेशाब निकलना, पीब जैसा सफेद और पतला मवाद आना आदि लक्षण रहते हैं तब प्रदाह धीरे-धीरे मूत्राशय तक जाकर पेशाब के साथ गोंद जैसा लेसदार श्लेष्मा और खून निकलता है और पेशाब गंदला दिखाई देता है, उस समय भी इससे फायदा होता है, सूजाक की बीमारी में कोपेवा के लक्षण बहुत कुछ कैन्थरिस के समान है।

श्वास की बीमारी – खांसी के साथ विपुल मात्रा में मटियाले रंग का पीब जैसा बलगम निकलता है, बलगम में बहुत बदबू और कभी-कभी उसका रंग हरा हो, खांसने के पहले गले में सुरसुराहट होती है। तो उस समय कोपेवा के प्रयोग से फायदा होगा।

चर्म – एक प्रकार का चर्म रोग, जिसमें शरीर पर आमवात या आमवात की तरह छोटे-छोटे दाने तथा मसूर की दाल की तरह उदभेद निकलते है, उसमें भी कोपेवा फायदा करती है।

सम्बन्ध – कैन्थर, कैनाबिस, एपिस, सीपिया, वेस्पा।

मात्रा – 1 से 6 शक्ति ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.