हाई क्रिएटिनिन लेवल का होम्योपैथिक इलाज, उपचार और दवा – Creatinine level Ko kam karne ka homeopathic medicine in hindi

0 963

क्रिएटिनिन एक रासायनिक अपशिष्ट उत्पाद है जो मांसपेशियों के चयापचय और कुछ हद तक मांस खाने से उत्पन्न होता है। स्वस्थ गुर्दे रक्त से क्रिएटिनिन और अन्य अपशिष्ट उत्पादों को फ़िल्टर करते हैं। फ़िल्टर्ड अपशिष्ट उत्पाद मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाते हैं। क्रिएटिनिन क्रिएटिन से उत्पन्न होता है। शरीर का लगभग 2% क्रिएटिन हर दिन क्रिएटिनिन में बदल जाता है।

यदि आपके गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं, तो क्रिएटिनिन का एक बढ़ा हुआ स्तर आपके रक्त में जमा हो सकता है। सीरम क्रिएटिनिन परीक्षण आपके रक्त में क्रिएटिनिन के स्तर को मापता है और आपके गुर्दे को कितनी अच्छी तरह से फ़िल्टर करता है इसका एक अनुमान प्रदान करता है। क्रिएटिनिन मूत्र परीक्षण आपके मूत्र में क्रिएटिनिन को माप सकता है।

स्वस्थ गुर्दा वाले अधिकांश पुरुषों में क्रिएटिनिन की मात्रा लगभग 0.6 से 1.2 मिलीग्राम / डेसीलीटर होती है। महिलाओं में आमतौर पर पुरुषों की तुलना में कम क्रिएटिनिन का स्तर होता है क्योंकि औसतन महिलाओं में पुरुषों की तुलना में कम मांसपेशियाँ होती है।

कारण – किडनी के कार्य को बाधित करने वाली कोई भी स्थिति रक्त में क्रिएटिनिन स्तर को बढ़ा सकती है। यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि क्या गुर्दे की शिथिलता-किडनी की विफलता के कारण होने वाली प्रक्रिया लंबी है या हाल ही की है। हाल की बढे क्रिएटिनिन लेवल को अधिक आसानी से उपचारित किया जा सकता है।

वयस्कों में दीर्घकालिक, क्रोनिक किडनी रोग के सबसे आम कारण हैं – उच्च रक्तचाप और मधुमेह।

हाई लेवल क्रिएटिनिन स्तर के अन्य कारण हैं-

  • कुछ दवाएं जैसे cimetidine कभी-कभी असामान्य रूप से हाई लेवल क्रिएटिनिन का कारण बन सकता है।
  • अधिक मांसाहारी भोजन करने से
  • किडनी संक्रमण, rhabdmyosis, असामान्य मांसपेशियों का टूटना और मूत्र पथ के संक्रमण से क्रिएटिनिन का स्तर भी बढ़ सकता है।

क्रिएटिनिन टेस्ट – क्रिएटिनिन रक्त परीक्षण अगर आप गुर्दे की बीमारी के लक्षण दिखाते हैं तो रक्त में क्रिएटिनिन के स्तर का आकलन कर सकते हैं। इन लक्षणों में शामिल हैं-

  • थकान और नींद न आना
  • भूख कम लगना
  • चेहरे पर सूजन, कलाई, टखने का सूजन
  • गुर्दे के पास पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • पेशाब में परिवर्तन और फ्रिक्वेंसी
  • उच्च रक्तचाप
  • जी मिचलाना
  • उल्टी

हाई लेवल क्रिएटिनिन का होम्योपैथिक उपचार

अच्छी तरह से चयनित होमियोपैथिक उपचार रक्त में क्रिएटिनिन स्तर को नियंत्रित करने के लिए बहुत प्रभावी हैं, और यह बिना किसी दुष्प्रभाव के सामान्य स्तर को सुरक्षित रूप से बनाए रखने में मदद करता है।

CUPRUM ARSENITUM 3X – यह रक्त में क्रिएटिनिन के उच्च स्तर के लिए एक बहुत प्रभावी उपाय है। गुर्दे की अक्षमता और लहसुन की तरह मूत्र की गंध में उपयोगी है। मूत्र का गुरुत्व भर बढ़ जाने में भी उपयोगी है।

CUPRUM ACETICUM 3X – क्यूप्रम एसिटिकम में जीभ बलगम के साथ लेपित होती है। एनीमिया, तेज पल्स, सूखी खांसी के साथ सांस फूलना। कुछ खाने पीने से उबकाई आना जैसे लक्षण में उपयोगी दवा है।

SERUM ANGUILLAE 6X – यह रक्त में क्रिएटिनिन के उच्च स्तर के लिए सबसे अच्छे दवा में से एक है। यह तीव्र नेफ्रैटिस में बहुत प्रभावी है, किडनी के खराबी में उत्तम काम करता है। मूत्र में एल्बुमिन की समस्या को ठीक करता है ।

ARALIA HISPIDA 30 – यह रक्त में क्रिएटिनिन के उच्च स्तर के लिए प्रभावी पाया जाता है। मूत्र मार्ग में संक्रमण में उपयोगी है। कब्ज के साथ गुर्दे की बीमारियों में अच्छा काम करता है ।

AMPELOPSIS QUINQUEFOLIA 30 – रक्त में क्रिएटिनिन के उच्च स्तर के लिए एम्पेलोप्सिस क्विनकोफोलिया एक और प्रभावी दवा है। उल्टी, जी मिचलाना, ठंडा पसीना और बेहोसी इसके प्रमुख लक्षण हैं।

ARSENICUM ALBUM 30 – रक्त में क्रिएटिनिन के उच्च स्तर के लिए एक प्रभावी दवा है। पेशाब करते समय पेशाब में जलन होती है। एल्बुमिनुरिया में उपयोगी है। फाइब्रिन के थक्के और मूत्र में मवाद और रक्त के ग्लोब्यूल्स में फायदेमंद है। पेशाब के बाद पेट में कमजोरी महसूस होना। पेशाब की रुकावट, यूरिन का काला होना जैसे कि गोबर में मिलाया गया हो। ऐसे लक्षण पर आर्सेनिक दवा लें।

LYCOPODIUM CLAVATUM 30 – रक्त में क्रिएटिनिन के उच्च स्तर के लिए लाइकोपोडियम एक प्रभावी उपाय है। मूत्र की खराबी, पेशाब करने से पहले तकलीफ, मूत्र में लाल रेत, तनाव। कभी-कभी हेमट्यूरिया। मूत्र में जलन और मूत्र गर्म रहता है। किडनी मुख्य रूप से प्रभावित होती है। रोगी नपुंसकता अनुभव करता है। रोगी गर्म भोजन और पेय पसंद करता है, मिठाई के लिए भी तीव्र लालसा रहती है।

APIS MELLIFICA 3X – एपिस मेल एक और प्रभावी दवा है जहाँ चेहरे या शरीर पर सूजन होती है। घुटन और सांस लेने में कठिनाई महसूस होती है। सभी लक्षण गर्मी से खराब होते हैं और ठंड से बेहतर होते हैं।

CANTHARIS 30 – किडनी फेल होने पर इससे अच्छा लाभ होता है। बेचैनी, दमकते चेहरे और दमकती आँखों के साथ पेशाब कम मात्रा में होता है। रोगी को मूत्र पास करने के लिए जोर लगाना पड़ता है लेकिन कुछ भी नहीं होता है, मूत्राशय में मूत्र नहीं होता है, होती है तो जलन के साथ।

Terebinthinae Oleum 30 – टेरेबिंथिना वहां निर्धारित किया जाता है जहां गुर्दे में जलन और दर्द महसूस होता है, खास कर दाहिने गुर्दे में खिंचाव महसूस होना जोकि नितम्ब तक फैलता है। पेशाब करने में कष्ट, खून भी आ सकता है। पेशाब रुक-रुक कर आता है, कॉफी की तरह गन्दा आता है। पेशाब में बनफशे के फूल की तरह गंध आता है। मूत्रनली में सूजन और दर्द में उपयोगी दवा है।

HELLEBORUS NIGER 30 – रक्त में उच्च क्रिएटिनिन के कारण बेहोशी में उपयोगी है। पेशाब की बार-बार इच्छा होना, मूत्राशय में भार महसूस होना, पेशाब का गहरा रंग, कॉफ़ी के चूरे की तरह तलछट पर जमना। ऐसे लक्षण पे इस दवा का उपयोग करना है।

UREA 6 – यह दवा गुर्दे की बीमारी की वजह से सूजन, अण्डलाल-मिला मूत्र, बहुमूत्र, युरिमिया और जिन सब पेशाब की बीमारियों में ऐसा अनुभव होता है कि पेशाब पानी की अपेक्षा भी पतला है ,पेशाब का आपेक्षिक गुरूत्व बहुत कम, वहाँ UREA 6 का प्रयोग से बहुत फायदा होता है ।

Belladonna 30 – बेलाडोना का उपयोग तीव्र अवस्था में किया जाता है, जब किडनी काम करना बंद कर देती है और हिंसक आक्षेप के साथ मांसपेशियों की मरोड़ होती है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें