Dulcamara 200 Uses, Benefits, Symptoms And Dosage In Hindi

0
604

Dulcamara एक Plant Kingdom की दवाई है। इसे बिटरस्वीट भी कहा जाता है और इसे ही solanum dulcamara भी कहा जाता है। मौसम बदलने पर कई सारी बीमारियाँ होती हैं जैसे सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार आदि। इस सब बीमारियों में Dulcamara बहुत ही असरदार दवाई है।

हमारे शरीर पर Dulcamara दवाई के प्रभाव

कुछ दवाइयाँ ऐसी होती है जो मौसम के आधार पर दी जाती है, मौसम बढ़ने पर जो बीमारियां होती है उसमे ये दवाइयाँ काम आती है। Dulcamara उनमे से एक दवाई है। गर्मी ख़त्म होने और बरसात का मौसम आने पर दिन गर्म और रात ठण्डे होते हैं जिस कारण कई बीमारियां हो जाया करती है, इस मौसम में बच्चों व बड़ों दोनों को सर्दी, जुकाम आदि होना आम बात है। इन बीमारियों में Dulcamara एक बहुत ही असरदार दवाई है। Dulcamara दस्त के लिए बहुत ही असरदार दवाई है। यह खांसी के लिए भी बहुत असदार है। शुरुआती बरसात में भीगने के कारण कई बार त्वचा पर खुजली या दाने होने लगते हैं Dulcamara इसके लिए भी अच्छी दवाई है।

वह कौन से लक्षण है जब Dulcamara लिया जा सकता है ?

  • सिर के पिछले हिस्से में दर्द होना, व गर्दन में भी दर्द होना
  • बालों में Dandruff की समस्या होना, बालों में Fungal Infection होना
  • आँखों से पानी निकलना, आँखों में खुजली भी होना साथ ही नाक से भी पानी आना, ठण्डी जगह पर जाने से डरना
  • कान से पस का बहना
  • चेहरे पर दाने होना और खुजली होना
  • मुँह में ठंडा खाने के बाद छाले हो जाना
  • मुँह में नसों का दर्द होना
  • दस्त होना, उल्टी होना
  • ज्यादा और खराब खाने से पेट में दर्द होना, ठंडा खाने से भी दर्द होना
  • मल का बहुत पतला निकलना
  • बरसात में या ठण्ड में बहुत ज्यादा मूत्र होना साथ ही जलन होना
  • मौसम बढ़ने पर खांसी होना, कफ बहुत अधिक निकलना, अस्थमा की समस्या होना
  • बारिश में भीगने के करना या गीले कपड़े पहनने के कारण दाद, खाज, खुजली या दाने निकलना
  • त्वचा पर लाल-लाल दाने निकलना
  • मौसम बदलने पर सर्दी, खांसी, बुखार होना

यह लक्षण मौसम बदलन पर, सर्दियों में या खराब खाना खाने पर देखने को मिलते हैं, इस सभी लक्षणों में Dulcamara बहुत ही असरदार दवाई है। बरसात के मौसम में Dulcamara 30 CH की दो बून्द जीभ पर टपका कर निकले ताकि इस मौसम का बुरा प्रभाव आपके शरीर पर न पड़े।

दवा लेने की विधि :- यदि इनमे से कोई भी लक्षण दिखे तो आपको Dulcamara का सेवन करना है। इसे दिन में तीन बार लेना है। इसकी दो-दो बूँद का सेवन करना है दिन में तीन बार। इसका सेवन तब तक करे जब तक मौसम बदल रहा है या जब आपको इनमे से कोई बीमारी हो गई है तो लें। Dulcamara चर्म रोग में भी बहुत ही असरदार है तो उसमे भी आप इसका सेवन करे। अगर चर्म रोग काफी समय से है तो दो-तीन महीने इस दवाई का सेवन करे। अगर आपको शरीर में दर्द है तो भी आप इस दवाई का सेवन दिन में तीन कर सकते हैं।

Loading...
SHARE
Previous articleViscum Album 30 CH Benefits, Uses And Side Effects In Hindi
Next articleपेट में दर्द, सूजन और जलन के लिए होम्योपैथिक दवाई
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here