Emissions Treatment In Homeopathy – बिना इक्छा के वीर्यपात

1,304

स्वप्नदोष तो वह स्थिति होती है जबकि सोते समय अनैच्छिक रूप से वीर्यपात हो जाता है लेकिन अनैच्छिक वीर्यपात वह स्थिति होती है जबकि किसी भी समय (जैसे- मूत्रत्याग करते समय, परिश्रम करते समय, हँसते समय, चलते समय, कोई भी श्रृंगारपरक पुस्तक आदि पढ़ते समय इत्यादि स्थितियों में) अनैच्छिक रूप से वीर्यपात हो जाता है । इस रोग के लगातार बने रहने से व्यक्ति एकदम कमजोर और निस्तेज हो जाता है । इस रोग से बचने का सर्वप्रथम उपाय यही है कि बुरी संगत, बुरी पुस्तकों और बुरी फिल्मों से दूर रहा जाये । साथ ही, रोगी को पौष्टिक भोजन लेना चाहिये तथा उचित व्यायाम करना चाहिये । काम-संबंधी विचारों से दूर रहना चाहिये। इस रोग में लक्षणानुसार वह सभी दवायें दी जा सकती हैं जो कि स्वप्नदोष में दी जा सकती हैं । अन्य कुछ दवायें यहाँ बता रहे हैं

काली ब्रोम 30- शरीर में सदैव काम-भावना बनी रहे, जरा-सी भी रसिकता भरी बात सुनते ही वीर्यपात हो जाये तो लाभप्रद है ।

सल्फर 30- यह अनैच्छिक वीर्यपात की उत्तम दवा है । अन्य लक्षणों के आधार पर देनी चाहिये ।

बोविस्टा 30- अत्यधिक भोग-विलास के कारण अनैच्छिक वीर्यपात की स्थिति उत्पन्न हो जाने पर यह दवा देनी चाहिये ।

कॅथरिस 30- वीर्यपात के बाद सारे शरीर में जलन रहे, वीर्यपात के बाद घण्टे-दो घण्टे तक निगाह धुंधली रहे, भयानक कामोत्तेजना हो, जननेद्रिय को स्पर्श करते ही वीर्यपात हो जाये तो इन लक्षणों में लाभप्रद है ।

सिना 200, 3x- पेट में कीड़े होने के कारण अनैच्छिक वीर्यपात हो जाता हो तो लाभप्रद हैं ।

काली फॉस 30, 6x- रोग के कारण आने वाली मानसिक कमजोरी को दूर करती है और उत्साह जगाती है ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.