हमदर्द जरनाइड सिरप के लाभ और नुकसान [ Hamdard Jernide Syrup Benefits In Hindi ]

3,029

हमदर्द जरनाइड सिरप को सामान्य दुर्बलता में दिया जाता है। इस दवा के सेवन से पेनिस की अतिसंवेदनशीलता कम होती है। यह सिरप केवल पुरुष ही इस्तेमाल कर सकते हैं। यह सिरप न सिर्फ सेमनिफेरस ट्यूब्यूल की सूजन को कम करता है बल्कि साथ ही साथ पेशाब के समय दर्द, जलन और पेनिस के तुरंत डिस्चार्ज हो जाने की समस्या में भी फायदेमंद होता है। इसे यूनानी सिरप भी कहा जाता है जिसके सेवन से स्वप्नदोष में भी लाभ मिलता है। आपको बता दें कि यह सिरप बिना इच्छा के वीर्य निकल जाने तथा शीघ्रपतन जैसी यौन समस्याओं में भी लाभदयाक होता है।

सिरप के बारे में इस पोस्ट की ओर से जो भी जानकारियां दी गयी हैं वह केवल इस सिरप में मिलाए गए जड़ी बूटियों के आधार पर दी गयी हैं। हम न तो इस उत्पाद को बढ़ावा देते हैं और न ही उत्पाद का प्रचार करते हैं। हम यह भी दावा नहीं करते कि यह उत्पाद 100 फीसदी असरदार साबित होगी। इस सिरप के लाभ को केवल इसमें मिलाये गए तत्त्वों के आधार और उनके उत्तम गुणवत्ता को देखकर बताया गया है। इस पोस्ट के माध्यम से जो भी जानकारियां दी गयी हैं उसका एकमात्र उद्देश्य इस उत्पाद के बारे में विस्तृत जानकारी देना है। आपसे अनुरोध है कि इसका प्रयोग स्वयं उपचार के लिए ना करें। हमारा एकमात्र उद्देश्य इस उत्पाद के अस्तर के आधार पर आपको जानकारी देना है। इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

  • दवा का नाम: हमदर्द जरनाइड सिरप
  • निर्माता: हमदर्द
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन तथा मेडिकल स्टोर्स में उपलब्ध है
  • दवाई का प्रकार: यूनानी दवाई
  • मुख्य इस्तेमाल: यौन विकार
  • मुख्य गुण: ताकत देना
  • मूल्य: हमदर्द जरनाइड 100ML @70 रूपए

हमदर्द जरनाइड सिरप के घटक

  • Berge Bakin (Chinaberry), 5.22g
  • Berg jhao (Tukhm Kasni), 5.22g
  • Berge Yabrooj (Atropa Belladonna), 0.73g.
  • Asalassoos (Glycyrrhiza Glabra) मुलेठी, 1.40g
  • Sokhta, 4.45g
  • Sugar, 7.4 g
  • Preservative: सोडियम बेंजोएट

मुलेठी के गुण

मुलेठी की जड़ को हम यष्टिमधु भी कहते हैं। मुलेठी को अल्सर रोधी एक्शन एवं उसके मीठे स्वाद के लिए भी हम जानते हैं। मुलेठी की जड़ को हम सांस संबंधी रागों तथा कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने के लिए भी करते हैं। साथ ही साथ हम इसे और भी कई बीमारियों से निजात पाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। मुलेठी का जड़ ( जिसे हम लिकोरिस भी कहते हैं) का मुख्य घटक ग्लिसरीफिसिन है। इसमें उपस्थित अन्य घटक जैसे, मैनाइट, स्टार्च, शुक्रोज, रेजिन ग्लूकोज आदि एक वाष्पशील तेल का पदार्थ है जो सामूहिक रूप से अपने औषधीय गुण मुलेठी की जड़ को दे देते हैं। यकृत पर इसकी लाभकारी कार्यवाही के जरिए यह पित्तप्रवाह को बढ़ाता है, साथ ही साथ कोलेस्ट्रॉल के लेवल को भी कम करता है।

आपको बता दें कि इस दवा के सेवन से शरीर में वायरस प्रवेश नहीं कर पाता। साथ ही साथ एंटी एलर्जीक होने के कारण यह दवा एलर्जी रिनाईटिस, स्थमा तथा कई अन्य बीमारियों पर नियंत्रण करने में कारगर साबित होती है।

मुलेठी का जड़ (जिसे हम लिकोरिस भी कहते हैं) युवा पुरुषों में टेस्टेस्टेरोन उत्पादन कम कर सकता है। यदि किसी पुरुष के शरीर में पोटेशियम की कमी है तो उसे इस दवा का सेवन नहीं करने चाहिए।

हमदर्द जरनाइड सिरप के फायदे

  • यह सिरप पुरुषों में दुर्बलता और कमजोरी के लिए कारगर है।
  • यह सिरप पेशाब के रोगों के लिए फायदेमंद है।
  • यह एक हर्बल दवा है।
  • इसे लेने से पुरुष के यौन विकारों में फायदा होता है। जैसे स्वप्न दोष, शीघ्रपतन, बिना इच्छा के वीर्य निकल जाना, इत्यादि।
  • इस दवा के सेवन से पुरुष के प्रजनन अंगों को ताकत मिलती है।

हमदर्द जरनाइड सिरप के चिकित्सीय उपयोग

  • इसे दिन में दो बार लें। इसे औपचारिक रूप से 5 ML लिया जा सकता है। साथ ही यदि कब्ज की शिकायत न हो तो इसे 7 ML भी ली जा सकती है। यदि शिकायत कम हो जाती है तो इसे हर दुसरे दिन पर लें।
  • इसे भोजन करने के बाद ही लें।
  • इसे डॉक्टर के दिशानिर्देश के बाद ही लें।

हमदर्द जरनाइड सिरप लेने में सावधानियां

  • इस दवा का इस्तेमाल चिकित्सक की सलाह पर एक से दो महीनों तक ही किया जा सकता है।
  • रक्तचाप की समस्या होने पर इसका इस्तेमाल न करें।

लिकोरिस को अधिक समय तक लेने से शरीर पर कई तरह के दुष्प्रभाव पड़ते हैं और शरीर के अंग काम करना बंद कर देते हैं। आम तौर पर हाइपोकैलीमिया, उच्च रक्तचाप और गंभीर गुर्दे के रोग में भी इसे नहीं लेना चाहिए। इसे भारी मात्रा में लेने से हृदय और मांशपेशियों में समस्या शुरू हो सकती है।

हमदर्द जरनाइड सिरप के साइड इफेक्ट्स

यदि इस दवा निर्धारित मात्रा में लिया जाए तो इस दवा का कोई दुष्प्रभाव नहीं है।

प्रयोग कब न करें

  • इसे अधिक मात्रा में न लें।
  • यदि इसके सेवन से शरीर में किसी भी तरह का एलर्जी होना शुरू हो जाये तो इस दवा का उपयोग न करें।
  • इस दवा में प्रचुर मात्रा में चीनी पाई जाती है। इसलिए डाइबिटीज में इसे सावधानी से इस्तेमाल करें। यदि शरीर में शुगर की मात्रा अधिक है तो इस दवा का सेवन न करें।

भंडारण निर्देश

  • इसे सूखी जगहों पर स्टोर करें।
  • इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखें।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
2 Comments
  1. ΝΤΕΤΕΚΤΙΒ says

    I’ve read some good stuff here. Definitely price bookmarking for revisiting.
    I surprise how much effort you set to make the sort
    of great informative web site.

    1. Dr G.P.Singh says

      Thanks

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?