Hepatitis Treatment In Hindi – यकृत प्रदाह

310

यकृत में दर्द, सूजन व जलन होने की दशा को ‘यकृत-प्रदाह’ कहते हैं। किसी अन्य रोग के कारण, अनुचित खान-पान से,गर्म दवाओं का व्यवहार करने से यह रोग हो जाता है ।

एनैन्थिरम Q, 3, 6– यकृत में प्रदाह व सूजन, तीव्र दर्द, यकृत ट्यूमर की भाँति कड़ा हो तो इसे दें ।

मर्कसॉल 3x, 6x, 6, 30- यकृत का प्रदाह, यकृत में दर्द, यकृत का कठोर व बड़ा हो जाना, रात में दर्द बढ़े, दॉयी करवट से रोगी सो न पाये, शोथ व पीलिया के लक्षण हों तो यह लाभप्रद है ।

ब्रायोनिया 6, 30- यकृत वाली जगह पर सुई गड़ने की तरह दर्द हो, अकड़नयुक्त दर्द हो, जलन रहे, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द हो, दाँये कन्धे के नीचे स्कैपुला हड्डी के नीचे दर्द हो, यकृत में सूजन रहे, खाँसी उठने तथा साँस लेने पर दर्द बढ़े, स्वाद में तीतापन रहे, जली मिट्टी या जली हुई ईंट की तरह अत्यन्त सूखा व कड़ा मल आता हो तो यह दवा दें ।

स्टीलेरिया मेडिया Q, 2x- यकृत फूल गया हो व कठोर हो गया हो, यकृत में सुई बिंधने की भाँति दर्द हो, रोगी आक्रान्त स्थान को दबाने न दे, कीचड़ जैसे रंग का मल आता हो तो इसे देना चाहिये ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
2 Comments
  1. सुनील कुमार says

    ये हेपटाइटिस से सम्बंधित इलाज नहीं लगता।ये जॉन्डिस का इलाज हो सकता है।क्योकि हेपटाइटिस तो ब्लड में वायरस का संक्रमण होता है।

    1. Dr G.P.Singh says

      First Try and then arise question.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.