कार्पल टनल सिंड्रोम का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Carpal Tunnel Syndrome In Hindi ]

0
202

हमारे हाथ की हथेलियों में एक टनल होता है जिसे कार्पल टनल कहा जाता है। यह टनल कार्पल बोन के बीच में होती है इसलिए इस टनल को कार्पल टनल कहा जाता है। इसी टनल से एक नस निकलती है जिसका नाम है Median Nerve. यह नस जब दब जाती है तो हथेलियों में झुनझुनाहट महसूस होती है। हाथों की हथेलियों में सुन्नपन महसूस होता और दर्द भी होता है। इसी स्थिति को कार्पल टनल सिंड्रोम कहा जाता है।

कार्पल टनल सिंड्रोम के कारण

  1. अगर किसी काम में आपको अपनी हथेलियों का ज्यादा प्रयोग करना पड़ता है, जैसे यदि आप लोहार हैं और लोहा पीटते हैं या आप ड्राइवर है तो आपको कलाइयों का प्रयोग ज्यादा करना पड़ता है जिससे आपको कार्पल टनल सिंड्रोम होने की संभावना ज्यादा रहती है।
  2. Hyperthyroidism के मरीजों को भी कार्पल टनल सिंड्रोम होने की संभावना रहती है।
  3. अगर आप ज्यादा मोटे है तो भी आपको यह समस्या होने की संभावना ज्यादा रहती है।
  4. अगर आपको मधुमेय की समस्या है तो भी आपको कार्पल टनल सिंड्रोम हो सकता है।
  5. यदि आपके हाथों में ट्यूमर है तो कार्पल टनल सिंड्रोम होने की संभावना बनी रहती है।
Loading...

कार्पल टनल सिंड्रोम के लक्षण

यदि आपको कार्पल टनल सिंड्रोम है तो आपकी हथेलियां सुन्न हो जाएँगी और उनमे झनझनाहट होगी। आपको हथेलियों में दर्द भी हो सकता है। ये लक्षण आपकी हथेलियों में ही नहीं उँगलियों और नाखून में भी हो सकता है। यह झुनझुनाहट, दर्द और सुन्नपन आपको न केवल हथेलियों में होगा बल्कि कलाइयों में या पुरे हाथ में भी बना रह सकता है। अगर आप उस हाथ में कुछ पकड़ते है तो आपको उसमे समस्या होगी और आपको उसमे सुन्नपन होने के कारण कुछ महसूस नहीं होगा। यदि आपको ये कार्पल टनल सिंड्रोम अधिक समय तक रहता है तो हथेलियों की वह मांसपेशियां दिखनी बंद हो जाएगी।

कार्पल टनल सिंड्रोम के लिए होम्योपैथी दवाइयां

Causticum 200 CH :- हथेलियों में जो झुनझुनाहट, सुन्नपन या दर्द होता है तो यह दवाई उस समस्या के लिए बहुत लाभदायक है। अगर आपका हाथ कमजोर हो गया है, और आप उस हाथ से कोई सामान पकड़ नहीं पाते है तो यह दवाई उस समस्या को ठीक करने में मददगार है। इस दवाई को आपको दिन में एक समय लेना है। Causticum 200 CH की दो बून्द सुबह-सुबह लें, हथेलियों की इस समस्या से निपटने के लिए।

Arnica Montana 30 CH + Ruta 30 CH + Bellis Per 30 CH :- इन तीनों दवाइयों को आपको बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर पीना है। शरीर के किसी भी हिस्से की नस अगर दब जाती है तो Arnica बहुत ही असरदार दवाई है। यह दवाई सुन्नपन के लिए भी बहुत ही असरदार है। यदि आप ऐसा काम करते है जिसमे ज्यादा से ज्यादा कलाइयों का प्रयोग हो तो Ruta बहुत ही असरदार दवाई है, यदि आपकी कलाइयों में चोट लग गई है तो उसे ठीक करने के लिए Ruta बहुत फायदेमंद है। Bellis Per चोट के लिए बहुत ही लाभदायक दवाई है और कहीं किसी कारण भी नस दब जाती है तो यह उसमे भी काम आती है। इन तीनो की 10-10 ML अच्छे से मिला कर रख लेनी है, इस मिश्रण की दो-दो बून्द दिन में तीन बार पीनी है।

Hypericum 200 CH :- नसों के इलाज के लिए यह रामबाण दवाई है। कार्पल टनल सिंड्रोम के सभी लक्षणों से यह दवाई राहत दिलाती है। इसकी दो बून्द रोज रात में पीनी है।

Kali Phos 6X :- यह दवाई नसों के इलाज के लिए बहुत ही असरदार है, यह दवाई झुनझुनाहट और सुन्नपन के लिए बहुत ही असरदार है। इस दवाई की छः-छः गोली दिन में तीन बार चुसनी है बाकी तीनों दवाइयों के साथ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

नोट :- इन चारों दवाइयों को आपको एक से दो महीने तक लगातार लेना है, इनके सेवन से आपका कार्पल टनल सिंड्रोम अच्छी तरह ठीक हो जायेगा और हाथों की कमजोरी भी दूर हो जाएगी। इनके साथ अगर आप कुछ हथेलियों का व्यायाम भी करते है तो कार्पल टनल सिंड्रोम और भी जल्दी ठीक हो जायेगा।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here