वेरीकोसील का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Treatment For Varicocele In Hindi ]

0 582

Homeopathic Treatment For Varicocele: वेरीकोसील में अंडकोष की नसें बढ़ जाती है। वेरीकोसील वेरिकोज नस के समान है जो अक्सर पैर में होता है।

वेरीकोसील वृषण शिरा और स्पर्मेटिक कॉर्ड के भीतर नसों का फैलाव है। वेरीकोसील बच्चों में एक आम रोग है और 10 साल के युवकों में अधिक देखा जा सकता है। वेरीकोसील 15 साल की उम्र में अधिक होती है। प्राथमिक बांझपन वाले लगभग 40% पुरुषों में वेरीकोसील होता है।

वेरीकोसील कम शुक्राणु उत्पादन और शुक्राणु की गुणवत्ता में कमी का एक सामान्य कारण है, जो बांझपन का कारण बन सकता है। हालांकि, सभी वेरीकोसील शुक्राणु उत्पादन को प्रभावित नहीं करते हैं। वेरीकोसील भी अंडकोष के सामान्य रूप से विकसित होने या सिकुड़ने का कारण बन सकता है।

Video On Varicocele

अधिकांश वेरीकोसील समय के साथ विकसित होते हैं। अधिकांश वेरीकोसील का इलाज करना आसान होता है और कई को उपचार की आवश्यकता ही नहीं होती है।

हालांकि, कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि वेरीकोसील तब बनता है जब कॉर्ड में नसों के अंदर के वाल्व आपके रक्त को ठीक से बहने से रोकते हैं। इससे अंडकोष को नुकसान हो सकता है और प्रजनन क्षमता खराब हो सकती है।

वैरिकोसेले अक्सर कम उम्र में होते हैं। वेरीकोसील आमतौर पर बाईं ओर होते हैं, सबसे अधिक संभावना बाएं वृषण शिरा की स्थिति के कारण होती है।

वेरीकोसील के लक्षण

वेरीकोसील अक्सर कोई संकेत या लक्षण पैदा नहीं करता है, इसमें दर्द हो सकता है। खड़े होने या शारीरिक परिश्रम के साथ दर्द बढ़ जाता है।

Varicocele ka Homeopathic Ilaj

इस लेख में मैं एक 25 वर्षीय व्यक्ति की कहानी साझा कर रहा हूँ जोकि Varicocele बीमारी से पीड़ित थे। उनके जननांगों के पास मस्से भी थे, जिसमे दर्द होता था।

Varicocele में ग्रेड के अनुसार लक्षण अलग-अलग होते हैं। हल्के मामलों में उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन गंभीर मामलों में सर्जरी कराने की आवश्यकता हो सकती है।

दुर्भाग्य से, Varicocele मामले में सर्जरी भी बहुत सफल नहीं है। सर्जिकल प्रक्रियाओं में Testicle के धमनी और नसों को नुकसान होने की संभावना अधिक होती है। होम्योपैथी ऐसे मामलों में व्यक्तिगत लक्षण के आधार पर इलाज करती है, जोकि काफी सफल पाए गए हैं।

इस केस में रोगी का 3rd grade Varicocele सामान्य हो गया। बहुत से लोगो को विश्वास नहीं होता कि होमियोपैथी से यह कैसे संभव हो सकता है, परन्तु अगर रोगी का दवा हमने खोज लिया तो निश्चित तौर पर रोग ठीक हो जाता है। यहाँ रेपर्टरी का ज्ञान होना आवश्यक है, क्युकी रोगी का दवा खोज निकलना अपने आपने आप में चुनौती है।

बहुत से होमियोपैथ Varicocele नाम सुनते ही, hamamelis, thuja, calcarea flour, Arnica आदि दवा दे देते हैं, परन्तु याद रखें होमियोपैथी में रोगी का दवा होता है न कि रोग का। रोग कोई भी हो, उसका नाम कुछ भी हमें उससे कोई मतलब नहीं है। हमें बस यह देखना है कि रोगी कैसा है।

हमारा रोगी Varicocele से पीड़ित है। उसे दाएं अंडकोष में हल्का दर्द होता था जो जांघ से दाएं पैर की उंगलियों तक फैलता था। लंबे समय तक खड़े रहने, लंबे समय तक बैठने और मसालेदार या भारी भोजन करने के बाद दर्द बढ़ जाता था। आराम करने और पैर को ऊपर उठाने से दर्द में राहत मिलती थी। उन्होंने मुझे बताया कि लिथोटॉमी की स्थिति में, जिसमे पैर को छाती की तरह मोड़ लिया जाता है, ऐसा करने से दर्द में हमेशा राहत रहती है।

उन्होंने लिंग और अंडकोश पर मौजूद मस्से की भी शिकायत की।

सामान्य तौर पर, रोगी धूप के प्रति संवेदनशील था, जिससे शरीर में खुजली होती थी। वह तंग कपड़ों में सहज महसूस नहीं करता है।

प्यास हल्की और वह रोगी ग्रीष्म प्रकृति का था। उसे मिठाई और केला बहुत पसंद था। मसालेदार भोजन से समस्या बढ़ जाती थी।

नींद सामान्य थी, और कोई विशेष सपना नहीं था।

मल और मूत्र सामान्य था।

मानसिक लक्षण और जीवन इतिहास : वह खुद में reserve रहने वाला व्यक्ति है, लेकिन क्रोध में, वह हिंसक हो जाता है और यहां तक कि हाथ भी उठा देता है। स्वभाव से, वह Introvert है, यहाँ तक कि करीबी दोस्तों के साथ भी अपने मामलों को साझा नहीं करता है। अपने ऑफिस में वह बहुत जिम्मेदार है और अपने काम को कभी अधूरा नहीं छोड़ता है। वह एक धार्मिक व्यक्ति है और भगवान में भरोसा करता है। अपने जीवन में, उसने कई लड़कियों के साथ शारीरिक संबंध बनाया है। एक लड़की के साथ शारीरिक संबंध बनाने के बाद उसका विश्वास तोड़ने पर उसे अपराध बोध होता है। उसने कहा कि वह अपनी यौन गतिविधियों के कारण कई महीनों तक खुद से घृणा महसूस करता था।

मैंने उनके सभी मामलों विश्लेषण किया और निम्नलिखित रूब्रिक का चयन किया।

  • मन – स्वार्थी और अपने आप में रहने वाला
  • हल्का प्यास
  • मीठा खाने की इच्छा
  • क्रोधी व्यक्ति
  • कामुक मन
  • हर काम में सतर्क
  • जिम्मेदारी को बहुत गंभीरता से लेता है
  • ग्रीष्म प्रकृति का है, और समस्या दायीं तरह है

रिपर्टरी करने पर Lycopodium, इनके सभी मानसिक और शारीरिक लक्षण को कवर करता है।

जब भी ऐसा मामला हो कि व्यक्ति ने कई लोगों से शारीरिक सम्बन्ध बनाये हैं, तो सबसे पहले मैं Syphilinum से शुरुआत करता हूँ। Syphilinum 1m कि 2 बून्द महीने में एक बार। चुकी रोगी Lycopodium का है तो हमने Syphilinum के 1 हफ्ते बाद Lycopodium 200 शक्ति की 2 बून्द हफ्ते में 1 बार लेने की सलाह दी।

15 दिनों के बाद रोगी ने कॉल पर बताया कि जननांग मस्से में थोड़ी राहत है और Varicocele का दर्द भी बेहतर है। दवा लेने के करीब 45 दिनों के बाद मस्से आकार में काफी कम हो गए थे। 3 महीने बाद के उन्होंने बताया कि मस्से लगभग चले गए हैं और Varicocele में दर्द बिल्कुल ख़त्म हो गया है।

मैंने Lycopodium 10M की एक खुराक लेने के बाद उनसे कहा कि अब आप दवा को पूरी तरह से बंद कर दें और एक महीने के बाद अंडकोश की अल्ट्रासोनोग्राफी करवा लीजियेगा और एक महीने बाद रोगी का 3rd grade Varicocele सामान्य हो गया। यहाँ वीडियो बनाने का तात्पर्य सिर्फ इतना है कि अगर दवा का चयन सही है तो रोग अवश्य ठीक हो जाता है।

Varicocele एक अंडकोश संबंधी बीमारी है जो अंडकोष की नसों पर प्रभाव पड़ता है। अधिकतर Varicocele का मामला बायीं ओर होता हैं या दोनों तरफ हो सकता है। यह रोग आम तौर पर 20 से 30 साल के दौरान होता हैं। Varicocele दोनों अंडकोषों में शुक्राणु उत्पादन को प्रभावित कर सकता है।

Varicocele होने के कारण :

Varicocele के सटीक कारणों को अच्छी तरह से समझा नहीं गया है। कुछ लोगों का मानना है कि शुक्राणु रज्जुओं में वाल्व, जो अंडकोष तक रक्त ले जाते हैं, ठीक से काम नहीं कर पाते हैं। उसी तरह से पैर की वैरिकाज़ नसों के साथ ऐसा ही होता है। यदि वाल्व विफल हो जाते हैं, तो रक्त प्रवाह बाधित हो जाता है और सुचारू रूप से चलने के बजाय एकत्रित हो सकता है।

Varicocele के मुख्य लक्षण:

Varicocele अक्सर कोई संकेत या लक्षण उत्पन्न नहीं करता है। इसमें हल्का दर्द हो सकता है। खड़े रहने या शारीरिक परिश्रम से, विशेषकर लंबी अवधि तक तो दर्द हो सकता है। जब आप पीठ के बल लेटते हैं तो राहत मिलती है। यह दर्द आम तौर पर हल्का से मध्यम होता है, लगातार बैठने, खड़े होने या गतिविधि करने पर होता है और लेटने पर कम हो जाता है। हालाँकि सोने से पहले यह असहज हो सकता है, लेकिन रात के आराम के बाद जागने पर यह आम तौर पर नहीं होता है। यह पुरुष बांझपन से जुडी समस्या है।

Homeopathic Medicine For Varicocele

Pulsatilla : यह उन मामलों में Varicocele के लिए सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवाओं में से एक है जहां मुख्य लक्षणों में अंडकोष की गंभीर सूजन के साथ पेट से अंडकोष तक दर्द होता है। व्यक्ति नीचे झुके तो अंडकोष में अत्यधिक दर्द की शिकायत करता है। Varicocele के साथ लिंग की नसें फूली दिखाई देती है।

Rhus Tox : तीव्र खुजली के साथ Varicocele के लिए एक अच्छी तरह से संकेतित होम्योपैथिक दवा है। बुखार के बाद अंडकोश और लिंग की सूजन का इलाज Rhus Tox से अच्छी तरह से किया जाता है। अगर इसके साथ जोड़ों में दर्द हो, नमी से दर्द बढे, बरसात के मौसम में समस्या बढ़ती हो तो इसे लिया जा सकता है।

Nux Vomica : यह Varicocele के लिए सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवाओं में से एक है, इसके लक्षणों के रूप में अंडकोष और शुक्राणु कॉर्ड में दर्द होता है। इस स्थिति से पीड़ित व्यक्ति को शीघ्रपतन की शिकायत हो सकती है। दर्द के साथ Varicocele का भी नक्स वोमिका से अच्छा इलाज किया जाता है। एक लक्षण है कि इसका रोगी चिड़चिड़ा होता है। छोटी-छोटी बात पर गुस्सा आ जाता है।

Hamamelis: Varicocele के लिए शीर्ष श्रेणी की होम्योपैथिक दवाओं में से एक Hamamelis है। व्यक्ति को शुक्राणु कॉर्ड में दर्द का अनुभव होता है जो वृषण तक जाता है। बढ़े हुए अंडकोष या अंडकोष जो छूने पर गर्म और दर्द होते हैं, Varicocele का हेमामेलिस के साथ अच्छी तरह से इलाज किया जाता है। अंडकोष और चिह्नित, उभरी हुई नसों की गंभीर सूजन के साथ Varicocele के लिए हेमामेलिस भी सबसे अच्छी तरह से संकेतित होम्योपैथिक दवाओं में से एक है।

Varicocele के बारे में पूछे गए प्रश्न और उसके उत्तर ( FAQ )

प्रश्न :- Varicocele की समस्या में Hamamelis 200 दवा चल रही है क्या दवा लेने के बाद अगर में शराब का सेवन करू तो दवा के क्रिया में कोई बदलाव आएगा या aggravation हो सकता है ?

उत्तर :- हम जानते हैं कि हर होम्योपैथिक दवा alcohol से बनती है तो अगर Varicocele के बाद शराब का सेवन करेंगे तो उसकी क्रिया में बाधा अवश्य पड़ेगा। अगर आप शराब का सेवन करते हैं तो अपने चिकित्सक को इसके बारे में जरूर बता दें, या शराब का सेवन करना बंद कर दें।

प्रश्न :- क्या मैं Varicocele में Rhododendron 200 दवा का सेवन कर सकता हूँ ?

उत्तर :- जी हाँ, अगर आपको इस दवा के लक्षण मिल रहे हैं तो आप Rhododendron 200 का सेवन कर सकते हैं, अपने चिकित्सक से भी परामर्श अवश्य कर लें यह बहुत जरूरी है Rhododendron 200 लेने से पहले चिकित्सक से पूछ लें।

प्रश्न :- क्या Varicocele का दवा लेने से किसी प्रकार का कोई साइड इफेक्ट हो सकता है ?

उत्तर :- हमेशा याद रखें Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा से aggravation हो सकता है पर साइड इफेक्ट नहीं। शुरू में लक्षण थोड़े बढ़ सकते हैं, बाद अपने आप ठीक हो जाता है।

प्रश्न :- Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा का सेवन खाना खाने के पहले करना है या बाद में ?

उत्तर :- अगर आप Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा का सेवन कर रहे तो खाना खाने के आधे घंटे पहले लें या फिर खाना खाने के आधे घंटे बाद भी लिया जा सकता है।

प्रश्न :- क्या Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा का सेवन गर्भवती महिला कर सकती है ?

उत्तर :- होम्योपैथिक दवा का सेवन गर्भवती महिला कर सकती हैं, होमियोपैथी की सभी दवा गर्भवती महिला के लिए सुरक्षित होती है। फिर भी दवा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से जरूर परामर्श कर लें।

प्रश्न :- क्या Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा का उपयोग स्तनपान महिला कर सकती है ?

उत्तर :- Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा का सेवन माता और बच्चा दोनों के लिए सुरक्षित है। फिर भी दवा के सेवन से पहले चिकित्सक की सलाह ले लें।

प्रश्न :- अगर मैं Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा का सेवन करूँ तो क्या इसका प्रभाव मेरे लिवर, किडनी और हृदय पर पड़ेगा ?

उत्तर :- जी नहीं ! होम्योपैथिक दवा का किसी प्रकार का कोई भी side effect नहीं है। दवा के सेवन से लिवर, किडनी और हृदय पर बुरा असर नहीं होता। फिर भी दवा लेने से पहले अपने चिकित्सक से पूछ लें।

प्रश्न :- Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा लेने में परहेज क्या रखना है?

उत्तर :- किसी भी होम्योपैथिक दवा का सेवन कर रहे हैं तो कच्चा प्याज, कच्चा लहसुन, हींग, खट्टी चीजें और coffee का सेवन न करें।

प्रश्न :- क्या Varicocele की समस्या के लिए होम्योपैथिक दवा के साथ शराब का सेवन करना मना है?

उत्तर :- अगर आप होम्योपैथिक दवा का सेवन कर रहे और साथ में शराब का सेवन करेंगे तो दवा असर करने में समय लगेगा, शराब पीने में कम से कम 2 घंटे का अंतर रखें। सबसे अच्छा रहेगा शराब का सेवन बंद कर दें।

इस लेख में Varicocele के विषय में जो बताया गया है वो सभी उम्र वालों के लिए है। दवा लेने से पहले कुशल चिकित्सक से सलाह अवश्य लें।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें