जरायु में रक्त स्राव का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Treatment Of Metrorrhagia ]

290

विवरण – ऋतुकाल के अतिरिक्त अन्य समय में यदि योनि से थोड़ा-बहुत रक्त-स्राव होता रहे तो उसे ‘जरायु का रक्तस्राव’ कहा जाता है। इसका मासिक-धर्म के स्राव से कोई सम्बन्ध नहीं होता । इसमें अति रजः की भाँति थोड़ा बहुत रक्त भी आ सकता हैं ।

चोट लगना, जरायु में अर्बुद अथवा प्रसवोपरान्त फूल न निकलना आदि कारणों से यह रोग होता है । इसके मुख्य लक्षण हैं – भूख न लगना, सुस्ती तथा बैठ जाने पर उठ न पाना आदि ।

चिकित्सा – इसमें लक्षणानुसार निम्नलिखित औषधियाँ लाभ करती हैं:-

सैबाइना 3x – रुक-रुक कर दर्द के साथ होने वाले चमकीले रक्तस्राव के लक्षणों में भी इसे दें ।

सिकेल 3 – गर्भस्त्राव अथवा प्रसव के बाद होने वाले इस रोग में दें ।

आर्निका 3x – यदि चोट लगने के कारण ऐसा हो तो इस औषध का प्रयोग करना चाहिए ।

फाइकस-रिलीजियोसा 1x – अतिरज:, चमकीला, लाल रक्त-स्राव तथा तलपेट में प्रसव जैसा दर्द होने पर इसे दें ।

विनका माइनर 3 – रजोनिवृत्ति के बाद भी बहुत दिनों तक अधिक खून जाते रहने पर इसे दें ।

कैमोमिला 3, 6 – काले ढेले जैसे रक्त स्राव के साथ अत्यधिक दर्द होने पर इसका प्रयोग करें ।

थ्लैस्पि-वार्सा-पैक्टोरिस Q, 3x – कष्टकर बीमारी में जब किसी अन्य औषध से लाभ न हो, तब इसे दें ।

पुरानी बीमारी में निम्नलिखित औषधियों का लक्षणानुसार प्रयोग करना चाहिए :- सीपिया 30, सल्फर 30, आर्ज-नाई 6, हायोसायमस 6 ।

जरायु में रक्त-संचय हो तो कैल्के-कार्ब 3 तथा कार्बो-वेज़ 30 हितकर है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.