ऑस्टियोपोरोसिस का होम्योपैथिक इलाज और दवा | Homeopathy Treatment For Osteoporosis In Hindi

0 78

ऑस्टियोपोरोसिस एक ऐसी स्थिति है जहां आपकी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और जिससे उनके टूटने की संभावना बढ़ जाती है। ऑस्टियोपोरोसिस में हल्के चोट पर भी हेयरलाइन फ्रैक्चर हो जाया करता है। इसमें हड्डियाँ अपना कैल्शियम खो देती हैं, तकनीकी रूप से कहें तो बोन का घनत्व कम हो जाता है।

ऑस्टियोपोरोसिस के कारण फ्रैक्चर होना सबसे आम बात है। संयुक्त राज्य अमेरिका में 50 वर्ष से अधिक आयु के लगभग 10 मिलियन व्यक्तियों को कूल्हे का ऑस्टियोपोरोसिस है। कारण है उनका रहन-सहन, सूर्य के प्रकाश की कमी।

ऑस्टियोपोरोसिस सभी को एक ही तरह से प्रभावित नहीं करता है। महिलाओं, विशेषकर वृद्ध महिलाओं में पुरुषों की तुलना में इस बीमारी के होने की संभावना अधिक होती है। अनुमानित 35 प्रतिशत पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में कूल्हे, रीढ़ या फोरआर्म का ऑस्टियोपोरोसिस होता है।

ऑस्टियोपीनिया को भी समझ लेते हैं : – हड्डी का परीक्षण करने के बाद, आपका डॉक्टर आपको बता सकता है कि आपको ऑस्टियोपीनिया है या नहीं ? ऑस्टियोपीनिया कोई बीमारी नहीं है, बल्कि हड्डी के डेन्सिटी ( घनत्व ) कम होने के लिए तकनीकी शब्द है। आपकी हड्डियों का घनत्व को देख कर अनुमानित किया जाता है कि आगे चल कर ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा कितना है ? अमेरिका में मोटे तौर पर 34 मिलियन महिलाओं और 12 मिलियन पुरुषों को ऑस्टियोपीनिया है। जैसा कि मैंने कारण बताया सूर्य के प्रकाश की कमी।

बोन डेंसिटी के कम होने के कई कारण हो सकता है, कुछ कारणों पर प्रकाश डालते हैं :-

  • आनुवंशिकी
  • किशोरावस्था के दौरान उचित पोषण नहीं मिलने से भी बोन डेंसिटी पर प्रभाव पड़ता है।

बोन डेंसिटी कम होने का मतलब यह नहीं है कि आपको ऑस्टियोपोरोसिस हो जाएगा, हालांकि ऑस्टियोपोरोसिस और फ्रैक्चर होने का जोखिम बहुत बढ़ जाता है। वास्तव में ऑस्टियोपोरोसिस होने का कोई एक कारक नहीं है। बल्कि, कई जोखिम कारक हैं जो इसमें योगदान करते हैं।

बुढ़ापा – जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं हड्डियों का नुकसान अनिवार्य रूप से होने लगता है। हड्डी एक जीवित ऊतक है जो हमेशा बढ़ रहा होता है। अधिकांश लोग 30 उम्र तक अपने अधिकतम बोन डेंसिटी तक पहुँच जाते हैं । बाद में, धीरे-धीरे बोन डेंसिटी कम होने लगती है और हड्डी का क्षरण होने लगता है। 40 वर्ष की आयु से प्रति वर्ष औसतन 1% अस्थि द्रव्यमान नष्ट हो जाता है।

हार्मोन – महिला हार्मोन एस्ट्रोजन ऑस्टियोपोरोसिस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। महिलाओं को अपनी हड्डियों को मजबूत रखने के लिए एस्ट्रोजन की आवश्यकता होती है, और रजोनिवृत्ति शुरू होने के बाद सभी महिलाओं में एस्ट्रोजन का उत्पादन कम हो जाता है। महिलाओं में, रजोनिवृत्ति के बाद 5-6 वर्षों के दौरान, हड्डियों का नुकसान लगभग 3-5% तक उच्च स्तर तक पहुंच सकता है। हर तीन पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में से लगभग एक को कुछ हद तक ऑस्टियोपोरोसिस होता है, यहां तक ​​​​कि हल्के ऑस्टियोपोरोसिस से फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है, विशेष रूप से कूल्हे और कलाई का। फ्रैक्चर के गंभीर परिणाम भी हो सकते हैं। हिप फ्रैक्चर के कारण हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी कराने वाली लगभग 20 प्रतिशत बुजुर्ग महिलाएं एक वर्ष के भीतर मर जाती हैं और जो बच जाते हैं उनमें से आधे को पूर्णकालिक नर्सिंग देखभाल की आवश्यकता होती है।

अनुवांशिक – आनुवंशिकता एक मुख्य कारक है और जिनके परिवार में ऑस्टियोपोरोसिस के इतिहास वाले व्यक्ति रहे हैं, उन्हें खास ख्याल रखने की आवश्यकता है। जिन व्यक्तियों में स्वाभाविक रूप से पतली, कम घनी बोन संरचनाएं होती हैं, उनमें ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा अधिक होता है क्योंकि उनके 30 वर्ष की उम्र में प्रवेश करने तक हड्डियों का द्रव्यमान कम हो चूका होता है।

शारीरिक गतिविधि – मांसपेशियों की तरह हड्डियाँ जीवित ऊतक होती हैं जिन्हें मजबूत और स्वस्थ रहने के लिए व्यायाम की आवश्यकता होती है। शारीरिक गतिविधि से हमारी हड्डियों को बल मिलता है। यही आप व्यायाम या कोई शारीरिक गतिविधि नहीं करते हैं तो मांसपेशियों की तरह आपकी हड्डियाँ कमजोर हो जाती हैं।

आहार – कैल्शियम, विटामिन डी, और फास्फोरस हड्डियों के लिए महत्वपूर्ण बिल्डिंग ब्लॉक्स हैं। यदि आपके आहार में इन खाद्य पदार्थों की कमी है, तो यह ऑस्टियोपोरोसिस में योगदान कर सकता है

धूम्रपान – कई अध्ययनों से हड्डियों के नुकसान और धूम्रपान के बीच संबंध की पुष्टि की गई है। हालांकि, एक बार जब आप धूम्रपान छोड़ देते हैं, तो बाद में इस आदत से प्रभावित हड्डियों के नुकसान को कम किया जा सकता है।

अत्यधिक शराब का सेवन – जो लोग अधिक मात्रा में शराब पीते हैं उन्हें फ्रैक्चर होने का खतरा अधिक होता है। यह आंशिक रूप से शराब के मूत्रवर्धक प्रभाव के कारण हो सकता है, जो मूत्र के माध्यम से कैल्शियम की हानि को प्रेरित करता है। शराब आंतों से कैल्शियम के अवशोषण को भी कम कर सकती है और विटामिन डी और मैग्नीशियम की कमी का कारण बन सकती है और ये दोनों हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।

सोडियम का अधिक सेवन – कई अध्ययनों ने हड्डियों की अखंडता पर उच्च सोडियम वाले आहार के हानिकारक प्रभावों का प्रदर्शन किया है। सोडियम का सेवन कम करने से हड्डियों के नुकसान को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

कॉफी – दिन में दो कप से ज्यादा कॉफी पीने से हड्डियों का तेजी से नुकसान हो सकता है।

अत्यधिक प्रोटीन का सेवन – कुछ अध्ययनों से पता चला है कि पशु प्रोटीन में उच्च आहार वास्तव में हड्डियों से कैल्शियम को हटाकर हड्डियों के नुकसान को बढ़ावा देता है। पशु प्रोटीन कहने का तात्पर्य है जो अधिक नॉन वेज का सेवन करते हैं।

दवाएं – कुछ दवाएं, जैसे कि कोर्टिसोन, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, थायरॉइड सप्लीमेंट्स, एंटीकोआगुलंट्स और एंटीकॉन्वेलेंट्स कैल्शियम अवशोषण में हस्तक्षेप कर सकते हैं, जो हड्डियों के पतलापन में योगदान करते हैं।

बीमारी – इसके अलावा मधुमेह, रुमेटाइड गठिया और हाइपोथायरायडिज्म जैसी अन्य बीमारी हड्डियों के नुकसान का कारण बन सकती है।

पुरुषों में हड्डियों का नुकसान अधिक धीरे-धीरे होता है, लेकिन एक बार जब वे 70 वर्ष की आयु तक पहुंच जाते हैं तो ऑस्टियोपोरोसिस के लिए उनका जोखिम काफी बढ़ जाता है। इस आयु वर्ग के पुरुषों में फ्रैक्चर का खतरा अधिक होता है।

ऑस्टियोपोरोसिस के लक्षण

ऑस्टियोपोरोसिस को अक्सर एक मूक रोग कहा जाता है क्योंकि इसमें फ्रैक्चर होने तक कोई स्पष्ट बाहरी लक्षण नहीं होते हैं। हाल के एक अध्ययन में, 50 या उससे अधिक उम्र की लगभग आधी महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस या कम अस्थि द्रव्यमान घनत्व था और उन्हें यह नहीं पता था। हो सकता है कि आपको तब तक पता न चले कि आपको ऑस्टियोपोरोसिस है, जब तक कि आपके पास वास्तव में कोई गंभीर संकेत न हो जैसे कि टूटी का टूटना, पीठ के निचले हिस्से में दर्द, सीढ़ियाँ चढ़ने, आगे झुकने या वस्तुओं को उठाने जैसी सामान्य गतिविधि करते समय हड्डी का टूट जाना।

ऑस्टियोपोरोसिस आपके शरीर की किसी भी हड्डी को प्रभावित कर सकता है, लेकिन अक्सर यह कूल्हे, कमर और रीढ़ की हड्डी में होता है। रीढ़ की कशेरुकाओं में ऑस्टियोपोरोसिस एक बहुत ही गंभीर समस्या है।

ऑस्टियोपोरोसिस के अन्य लक्षणों में शामिल हैं: –

  1. ऑस्टियोपोरोसिस के कारण आपकी रीढ़ की हड्डी टूट जाती है और आपका कद कम हो जाता है।
  2. पीठ दर्द
  3. घुमावदार या कूबड़ वाला पीठ
  4. झुके हुए कंधे

अधिक चर्चा न करते हुए अब ऑस्टियोपोरोसिस के होम्योपैथिक दवा के बारे में समझते हैं :-

होम्योपैथी आज एक बढ़ती हुई प्रणाली है और पूरी दुनिया में इसका अभ्यास किया जा रहा है। इसकी ताकत इसकी स्पष्ट प्रभावशीलता में निहित है क्योंकि यह मानसिक, भावनात्मक, आध्यात्मिक और शारीरिक स्तरों पर आंतरिक संतुलन को बढ़ावा देकर बीमार व्यक्ति के प्रति समग्र दृष्टिकोण अपनाती है। जब ऑस्टियोपोरोसिस का संबंध होता है तो होम्योपैथी में कई प्रभावी दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन चयन मानसिक और शारीरिक लक्षणों को ध्यान में रखते हुए रोगी के व्यक्तित्व पर निर्भर करता है।

Calcarea carb 200 – मोटे, थुलथुले व्यक्ति जो कम से कम परिश्रम में आसानी से थक जाते हैं। पीठ दर्द और गर्दन में दर्द रहता है। पीठ की कमजोरी के कारण कुर्सी पर सीधा नहीं बैठ सकते। रीढ़ की हड्डी में ढीलापन महसूस होना, दबाव पड़ने पर दर्द होना। हड्डियों का विकास ठीक से नहीं होना, जोड़ों में सूजन और दर्द। ठंड और नमी से रोग बढ़ जाना। रोगी को आसानी से सर्दी लग जाती है। चॉक, कोयला, पेंसिल खाने की इच्छा, अंडे खाने की लालसा रहना। अत्यधिक पसीना आना, विशेषकर सिर पर बहुत पसीना, तकिये को गीला कर देता है। अधिक वजन वाले व्यक्ति के लिए यह दवा लाभदायक है। 2 बून्द हफ्ते में 1 बार लेना है।

Calcarea Flour 6x – हड्डियों के विकृत होने पर, जोड़ों में दरार आना, हड्डी के गलने या कहीं हड्डी के बढ़ जाने पर विशेष रूप से उपयोगी दवा है। किसी स्थान की हड्डी के बढ़ जाने या उसके गलने-सड़ने लगने पर भी इसका बायोकैमिक या होम्योपैथिक दोनों दृष्टि से उपयोग होता है। डॉ० फैरिंगटन लिखतें हैं कि एक स्त्री जिसके नीचे के जबड़े की हड्डी सड़ गई थी, अन्य दुसरे किसी दवा से ठीक न होने पर कैलकेरिया फ्लोर 6x के कुछ दिन लगातार लेते रहने से ठीक हो गई। अस्थि-शोथ के एक रोगी को कैलकेरिया फ्लोर C.M. की एक मात्रा से ठीक कर दिया।

Calcarea Phos 6x – कैल्सियम की कमी, धीमी गति से हड्डी का पतला होना, हड्डियों का नहीं जुड़ना जैसे लक्षण में उपयोगी दवा है। हड्डी में चुभन, जलन के साथ दर्द रहता है। रीढ़ की हड्डी का बाईं ओर मुड़ जाना, थोड़े चोट से हड्डी का टूट जाना, हिंसक दर्द इत्यादि में अच्छा काम करता है। इसकी 4 गोली दिन में 3 बार लेनी चाहिए।

Symphytum Officinale Q – ऑस्टियोपोरोसिस के कारण फ्रैक्चर होने पर उपयोगी दवा है। सिम्फाइटम को आमतौर पर ‘हड्डी जोड़ने की दवा’ के रूप में जाना जाता है। यह कठोर उत्पादन को बढ़ाकर खंडित हड्डी को बुनाई और एकजुट करने में मदद करता है। यह दवा टूटी हुई हड्डी को बहुत कुशलता से जोड़ने में मदद करता है। फ्रैक्चर वाली जगह पर चुभने वाला दर्द को भी ठीक करता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें