Kali Permanganicum Homeopathy Uses, Benefits And Side Effects In Hindi

0
151
Kali Permanganicum

[ इसका दूसरा नाम है – पोटाश परमैंगनेट ] – यह दवा गला, नाक और स्वरयंत्र में बहुत अधिक उत्तेजना, डिफ्थीरिया, बाधक पीड़ा, साँप या अन्य किसी भी जहरीले जानवर के काटने पर तथा पीब, प्रसव के बाद का क्लेद ( lochia ) इत्यादि किसी भी स्राव में बहुत बदबू रहने पर और उस स्राव के रक्त के साथ मिलकर दूषित या सेप्टिक अवस्था को प्राप्त होने पर तथा एलोपैथिक इंजेक्शन में उपयोग होता है। प्रसव के बाद बहुत दिन तक रक्तस्राव हो और उक्त रक्त में बदबू रहे तो – इसकी निम्न शक्ति के भीतरी सेवन से बहुत फायदा होता है। डिफ्थीरिया में अगर मुंह में सड़ी गंध निकलती हो तो शुरू से ही इसका प्रयोग करना चाहिए।

नाक से खून निकलना, गले के भीतर सूजन और दर्द, खखारने पर गले से जो बलगम आदि निकलता है उसके साथ रक्त जाना, नाक के भीतर दर्द, जीभ में घाव, उपजिह्वा फूलना, साँस में बदबू इत्यादि रोगों की यह उत्कृष्ट दवा है।

कैलि परमैंगनीकम का प्रयोग – बाहर-भीतर दोनों तरह से होता है। बाहरी प्रयोग के लिए – पोटाश परमैंगन 1 ड्राम, लगभग एक सेर पानी में मिला लेना चाहिए। पोटाश परमैंगन देखने में ठीक मैजेंटा रंग के चूरे की तरह और पानी में डालने पर ठीक मैजेंटा रंग की तरह ही लाल रंग का हो जाता है। इस लोशन से कैंसर का सड़ा घाव, ओजिना ( नकड़ा ) या किसी भी तरह के स्राव की बदबू बहुत जल्द दूर हो जाती है और घाव साफ़ हो जाता है। प्रसव के बाद और प्रमेह रोग में भी कितने ही चिकित्सक इसकी पिचकारी दिलवाने की व्यवस्था करते हैं।

Loading...

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

क्रम – भीतरी सेवन के लिए 2x शक्ति, पानी के साथ।

Loading...
SHARE
Previous articleलैथाइरस [ Lathyrus Sativus Homeopathy Uses, Benefits And Side Effects In Hindi ]
Next articleकैलि नाइट्रिकम [ Kali Nitricum 3x Homeopathy In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here