Leucorrhoea Treatment In Homeopathy – श्वेत प्रदर

918

इस रोग में रोगिणी की योनि से एक प्रकार का स्राव निकलता रहता है जो प्रायः सफेद रंग का होता है लेकिन यह स्राव पीला, नीला, काला या लाल भी हो सकता है । कुछ व्यक्ति लाल रंग के स्राव को रक्त-प्रदर भी कहते हैं । इस रोग में कमजोरी, सिर-दर्द, आलस्य, भूख न लगना, पीठ में दर्द, शरीर में खून की कमी हो जाना, बेचैनी आदि लक्षण प्रकट होते हैं । यह रोग मुख्यतया गन्दे रहने, अधिक भोग-विलास, पौष्टिक भोजन का अभाव, मासिक के विकार, शारीरिक श्रम का अभाव, कम आयु में विवाह हो जाना, ठण्ड लग जाना आदि के कारण होता है ।

पल्सेटिला 30- यह समस्त प्रकार के प्रदर रोग में लाभकर है । इसकी रोगिणी मोटी तथा सहानुभूति की भूखी होती है ।

सीपिया 200- योनि से ऐसा प्रदर आये जो आस-पास की त्वचा छील दे, वहाँ खुजली मचती रहे, तलपेट में भार का अनुभव हो, भीतरी अंगों के बाहर निकल पड़ने की अनुभूति हो- इन लक्षणों में देवें ।

हाइडैस्टिस कैन 30- पीला अथवा लालिमायुक्त स्राव आये जो गाढ़ा हो तथा जलन उत्पन्न करता हो ।

एल्युमिना 30- स्राव निकलते समय जलन हो, स्राव इतनी अधिक मात्रा में आये कि टाँगों तक बहने लगे- तब लाभ करती है ।

बोविस्टा 12, 30- अण्डे की सफेदी जैसा प्रदर, रोगिणी को अपना सिर बढ़ा हुआ तथा भारी प्रतीत हो ।

सल्फर 30- पुराने रोग में इस दवा को देने से रोगी को निश्चय ही आराम आ जाता है ।

ग्रेफाइटिस 30- रोगिणी मोटी हो, गोरे रंग की हो, स्राव में जलन हो, पेडू व कमर में दर्द हो तो लाभप्रद है ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.