Lice Treatment In Homeopathy – सिर में जुएं हो जाना

1,081

प्रायः बालों को स्वच्छ न रखने के कारण सिर में जुएँ नमक कीट उत्पन्न हो जाते हैं । ये छोटे छोटे कीट बालों में छुपे रहने के कारण नज़र नहीं आते और वहीँ रहकर यह शरीर से रक्त पीते रहते हैं । इन्हे मार पाना अत्यन्त कठिन हो जाता है और रोगी इनके कारण बहुत परेशान हो जाता है। यहाँ जुओं का एकदम अचूक इलाज़ बताया जा रहा है ।

सिर में जुएं हो जाने का होम्योपैथिक इलाज

सेबाडिला, एजाडिरेक्टा इण्डिका, ओसिमम सैंक्टम – इन तीनो दवाओं के मूल अंको ( Q ) को दो दो ड्राम की मात्रा में ला कर रख लें । फिर 250 ग्राम नारियल का तेल लेकर उसमे ये तीनो दवायें मिला दें। अब इस सारे मिश्रण को अच्छी तरह मिला लें । अब आपका तेल तैयार है । इस तेल को प्रतिदिन बालों की जड़ों में रगड़ रगड़ कर लगाएं । इस तेल को नियमित रूप से लगाने से जुएँ नहीं होंगी और यदि हो गई तो नष्ट हो जायेंगी। साथ ही, लीखें, सिर के चर्म रोग आदि भी नहीं होंगे। इस तेल के प्रयोग से कीड़ों के नाश होता है।

इस तेल में जो दवाएं मिलाई गई है उनमे से ये दो – एजाडिरेक्टा इण्डिका, ऑसीमम सैक्टम क्रमशः नीम और तुलसी से बनाई जाती है। नीम और तुलसी – यह भारत में पैदा होने वाली ऐसी वनस्पतियाँ हैं जो कीटों और जीवाणुओं को आश्चर्यजनक ढंग से नष्ट कर देते हैं।

जानें डेंगू फीवर के होम्योपैथिक दवा के बारे में

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.