Materia Medica In Hindi – मैटेरिया मेडिका 3

1,807

(41) Cicuta 200 – सिर, गर्दन रीढ़ का पीछे को मुड़ जाना (धनुष्टकार); हिचकी; कप या खींचन (Convulsions).

(42) Cina 3, 200 – पेट में केंचुए की तरह के कीड़े (सूत की तरह के कीड़ों में ट्युक्रियम); नर्वस बच्चों को 30 या 200 शक्ति की मात्रा दो।

(43) Clematis 30, 200 – सुजाक की पेट की नली में असह्य दर्द; बूंद-बूंद पेशाब होना; अण्डहोष का पत्थर की तरह कड़ा होना।

(44) Cocculus 30 – गाडी आदि की यात्रा की गति से मतली या जी कच्चा-कच्चा होना, नींद की कमी से रोग-चक्कर आदि।

(45) Coffea cruda 200 – शुभ-समाचार से अनिद्रा; दांतो-कमर-प्रसव आदि का दर्द (मुंह में ठंडा पानी रखने से दांत के दर्द में कमी हो जाती तो कॉफिया लाभप्रद है)

(46) Colchicum 30 – किसी भी रोग में रोगी रसोईघर की गंध बर्दाश्त नहीं कर सकता; अफारा-मनुष्य या पशु के पेट में गैस इतनी भर जाती है कि मानो फूट पड़ेगा इसमें 3x उपयोगी है, 200 भी।

(47) Colocynth 6, 30, 200 – पेट-दर्द में सामने की ओर झुकने या पेट दबाने से आराम होना (डायोस्कोरिया में उल्टा है, उस में पीछे की ओर मुड़ने से आराम होता है).

(48) Conium 30, 200 – बुढ़ापे के रोग; टांगों से पक्षाघात शुरू होकर ऊपर को जाना; सिर इधर-उधर घुमाते ही चक्कर आना; आंख बन्द करते ही पसीना आना किसी भी रोग में क्यों न हो; यकायक विधुर या विधवा होने पर सेक्स-संबंधों के छूट जाने पर होने वाले स्नायविक रोग उन्हें जिन्हें सेक्स की आदत हो; नपुंसकता।

(49) Croton tiglium 30 – पानी की तरह पतला दस्त जो गोली के-से वेग के समान एकदम सारा निकल आता है; भोजन के बाद दौड़ कर दस्त के लिये भागना; अण्डकोषों की थैली में बेहद खुजली।

(50) Cuprum met 30 – अकड़न जो हाथ-पैर की अंगुलियों से चलकर सारे शरीर में फैल जाय; अकड़न में अंगुलियां अन्दर की ओर मुड़ती हैं (सिकेल कोर में अंगुलियां बाहर की ओर फैलती हैं); हैजे की प्रतिरोधक है; किसी दबे हुए त्वचा के रोग में जिस के दब जाने से नया रोग उत्पन्न हो गया हो यह त्वचा-रोग को बाहर ले आता है।

(51) Dioscorea 3 – नाभि से दर्द उठकर सारे शरीर में फैल जाता है; पेट-दर्द सामने की ओर झुकने से बढ़ता है, पीछे की ओर होने से घटता है (कौलोसिन्थ से उल्टा); किसी भी दर्द में यह लक्षण हो तो यह दवा दो।

(52) Drosera 12, 30, 200 – हूप खांसी की दवा है, मात्रा दोहरानी नहीं चाहिये; व्याख्याताओं का स्वर-भंग; दमा; टी. बी.।

(53) Dulcamara 30 – तर हवा से, भीजने से दर्द, जुकाम, दमा, दस्त, लकवा आदि कोई भी रोग होने पर दें।

(54) Eupatorium perf Q, 3, 30 – मलेरिया, फ्लु, डेंगू आदि ज्वर में हड्डयों में दर्द मानो वे चूर-चूर हो गई हों।

(55) Euphrasia Q, 6, 30 – आंख के रोग में दो-चार बूंद टिंचर 1 औंस डिस्टिल्ड वाटर (आंख धोने के लिये); जुकाम में आँख से जलनेवाले आंसू पर, नाक से न जलनेवाला पानी (एलियम सीपा से उल्टा); मूल अर्क का बाहरी प्रयोग (कंजक्टिवाइटिस आदि आखों के रोग में 1 भाग टिंचर 8 भाग डिस्टिल्ड वाटर)।

(56) Fagopyrum 12x – आंखों में भयंकर खुजली; पढ़ने से सिर दर्द; हाई ब्लड प्रेशर 12x दो।

(57) Ferrum phos12 – रुधिर में रक्त-कण कम हों तो 3x देना चाहिये, रोगी कमजोर पर चेहरे पर झूठी लालिमा; ज्वर की प्रथम अवस्था जिस में एकोनाइट की-सी तेजी न हो।

(58) Fluoric acid 6, 30 – भगन्दर; आंखों का या दांतों का नासूर; बाल झड़ना; वेरीकोज वेन्ज।

(59) Gelsemium 3, 30, 200 – सिर की गुद्दी में दर्द, ज्वर में निंदासा पड़े रहना; निद्रालुता; चक्कर; कंपन: लकवा; थकावट या नर्वस होने से नींद न आना; भय या बुरे समाचार से दस्त लगना 3 शक्ति का अधिक प्रयोग होता है। जिन रोगों के साथ दिमागी रोग मिले रहें उनमें उपयोगी है। 10-11 बजे रोग बढ़कर शाम तक ढलना।

(60) Glonoine 30 – लू लगना; सिर-दर्द का सूर्योदय के साथ बढ़ना, सूर्यास्त के साथ घटता है। (नैट्रम म्यूर में भी ऐसा है); हाई ब्लड प्रेशर (ऑरम, फैगोपाइरम और ऑरम म्युरियेटिकम नैट्रोनेटम में भी यह है).

Materia Medica In Hindi – मैटेरिया मेडिका Page 1 of 7

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?