Materia Medica In Hindi – मैटेरिया मेडिका 7

2,289

(121) Sulphur 30, 200, 1M, 10M – जलन; हाथ-पैरों की जलन; मुख तथा सिर की तरफ़ रजोरोध की-सी झलें; प्रात:काल का डायरिया; 11 बजे दोपहर असह्य भूख, जी डूबता-सा होना; कुत्ते की नींद सोना; सवेरे 3 बजे के बाद न सो सकना; खुजली; चुनी हुई दवा से लाभ न होना; देर तक एक जगह खड़े न रह सकना; त्वचा के किसी दबे हुए रोग को जिस से दमा आदि कोई रोग हो गया हो फिर से त्वचा पर बाहर लाना।

(122) Symphytum 200 – हड्डी पर चोट; हड्डी टूटने को जोड़ देती है; आंख पर चोट।

(123) Syphilinum 1M – रात को रोग बढ़ना (मैडोरिनम से उल्टा); अत्यधिक प्रदर-स्राव।

(124) Tellurium 6, 30 – कान से बदबूदार और जख्म करने वाला पीप बहना; दाद।

(125) Terebinthina 6 – किडनी (मूत्र-ग्रन्थि) की बीमारी; पेशाब में खून आना; पेशाब रुकना।

(126) Teucrium marum 6 – पुराना जुकाम जो कभी बहे, कभी न बहे; पेट में सूत के-से कीड़े; चिलूड़ें।

(127) Thiosinaminum 2x – कान में आवाजें (चेनोपोडियम); आंख में जाला; डॉ हार्ड के अनुसार बुढ़ापे को रोकता है।

(128) Thlaspi Q, 6 – जरायु संबंधी दबे हुए रोग में फायदेमंद।

(129) Thuja Q, 30, 200, 1M – मुख, आंख, हाथ, गुदा, जननांग आदि पर फूल-गोभी की तरह के मस्से (बाहर मूल अर्क लगाओ, खाने को 200 शक्ति दो); माथे के अलावा सारे शरीर पर पसीना आना (साइलीशिया से उल्टा); दांतों की जड़ का क्षय या दांत-दर्द, नाखून टूटना या टेढ़े-मेढ़े होना: सवेरे के दस्त; सुजाक; ट्यूमर।

(130) Trillium 30 – जरायु में पिंड (Uterine fibroids) के कारण रक्त-स्राव।

(131) Thyroidinum 6, 30 – लो ब्लड प्रेशर में उपयोगी (कैम्फोरा भी लाभप्रद है)

(132) Urtica urens 3x – माता के दूध कम होना; गठिये में टिंचर दो।

(133) Ustilago 3 – हस्त-मथुन की बीमारी में लाभप्रद है।

(134) Vaccinium or Variolin or Malandrinum, 200 – टीके के दुष्परिणाम, स्नायु-शूल; फुन्सियां जो ठीक होने में न आयें; अजीर्ण, पेट फूलना आदि।

(135) Veratrum album 30 – हैजे में शरीर का ठंडा पड़ जाना; माथे पर ठंडा पसीना आना; वमन; ऐंठन।

(136) Viburnum opulus 6 – स्त्रियों की औषधि; गर्भपात की रोकती है; मासिक देर में, थोड़ा और कुछ ही घंटे रहता है।

(137) Viscum album Q, 3, 6 – शियाटिका में फायदेमंद।

(138) X-ray 12, 30 – डिम्बाशय अण्डकोष आदि ग्रन्थियों का कैंसर।

(139) zincum metallicum 6, 30 – दिमागी थकावट।

नोट – हमने इस प्रकरण में मुख्य-मुख्य होम्योपैथिक औषधियों के मुख्य-मुख्य लक्षण दिये हैं जिनको पढ़ने के बाद विद्यार्थी के मस्तिष्क में प्रत्येक औषधि की एक रूप-रेखा बन जायेगी। इस रूप-रेखा को आधार बना कर विद्यार्थी प्रत्येक औषधि के विषय में विस्तृत जानकारी लेने का प्रयत्न करेगा तो उसके मन में औषधि का चित्र बनने लगेगा, और धीरे-धीरे वह प्रत्येक औषधि की अन्तरात्मा तक पहुंच सकेगा। जो-कुछ हमने इस प्रकरण में दिया है वह औषधि की झलक मात्र लेने के लिये दिया है।

Materia Medica In Hindi – मैटेरिया मेडिका Page 1 of 7

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?