मर्क्यूरियस डलसिस [ Mercurius Dulcis 30 Materia Medica In Hindi [

0
282
merc dulcis 200

[ ‘कैमोमेल’ ( क्लोराइड ऑफ मर्करी : एक तरह का पारद ) का लैटिन नाम है – मर्क्यूरियस डलसिस ] – हैजा की पहली और दूसरी अवस्था में – इस दवा का इस्तेमाल करने से पित्त निकलने की क्रिया में मदद पहुँचती है और यह बहुत ही जल्द रोगी को आरोग्य की और ले आती है। हिमांग अवस्था अर्थात शीत आ जाने पर – जब हृत्पिण्ड और शिराओं में खून जम जाने से रक्त-संचालन की क्रिया बन्द हो जाती है, नाड़ी का पता नहीं चलता, रोगी बहुत हांफने लगता है, श्वास लेने और छोड़ने में बहुत तकलीफ होती है, मृत्यु नजदीक आ जाती है, तब – लक्षणों को अच्छी तरह समझकर, यथासमय इसका प्रयोग किया जाए तो – अनेक संकटों से रोगियों को पुनर्जीवन दिया जा सकता है।

हैजा में – कैलोमेल का प्रयोग करने के लिये निम्नलिखित लक्षणों का ख्याल रखना चाहिये। इसे अधिक मात्रा में व बार-बार न दें।

मुरदे-जैसा बदरंग चेहरा, तेज प्यास, बहुत ज्यादा परिमाण में दस्त और कै, पेट में ऐंठन का दर्द, पेट भरा हुआ, नाभि की जगह और छाती में जलन ; पहले बहुत ज़्यादा परिमाण में पानी-सा-दस्त होना, फिर 7-8 घण्टे के अन्दर दस्त की मात्रा क्रमशः घटकर कै होना, जी मिचलाना, खून की पेचिश और साथ ही कूथन या हरे रंग के दस्त इत्यादि होना; पेशाब पहले बहुत ज्यादा होना, फिर धीरे-धीरे उसका घटता जाना, इन सब लक्षणों में – मर्क्यूरियस डलसिस 3x चूर्ण – एक या आधी ग्रेन की मात्रा में, प्रतिबार उपयोग करना चाहिये। स्व० डाक्टर जी० मानुक, एम० बी०, सी० एम० – हैजा की पहली अवस्था में चावल के धोवन की तरह बहुत ज्यादा परिमाण में दस्त-कै होते रहने पर, दूसरी कोई दवा देने के पहले – कैलोमेल 3x चूर्ण से लेकर 6 शक्ति तक 5-7 बार प्रयोग करने का उपदेश देते हैं। उनके मत से इससे पित्त निकलने की क्रिया बढ जाने से मल पित्त-संयुक्त हो जाता है, जिससे अन्यान्य उपसर्ग भी घट जाते हैं। कैलोमेल की 3-4 मात्रा देने पर भी अगर कोई लाभ न हो तो – लक्षणों के अनुसार, दूसरी दवाओं का प्रयोग करना चाहिये।

Loading...

क्रोटेलस – खुन-शुदा दस्त वाले ( hemorrhagic variety ) हैजे में इस दवा की जरूरत पडती है। जहाँ हैजे की पहली अवस्था से ही मल के साथ खून निकले या बीच-बीच में खून के दस्त हों, मसूढ़े, मुँह और नाक से खून का स्राव होता हो, पेट फूलता हो, वहाँ-इस दवा से फायदा होता है । एकाएक शीत आ जाना, शरीर नीला पड़ जाना, ऐंठन, कै, दस्त, श्वास-प्रश्वास में तकलीफ, नाड़ी अत्यंत क्षीण, पेशाब बन्द, ज्वर तुरन्त मृत्यु हो जाने की-सी अवस्था इत्यादि में ~ क्रोटेलस फायदा करती है।

अतिसार – मल का रंग घास की तरह हरा ; मलद्वार की खाल गल जाना। कैलोमेल में – मर्क्यूरियस सॉल की तरह शरीर की किसी न-किसी जगह की गाँठ फूलना, मुँह में छाले या घाव, मुँह से बदबूदार लार निकलना इत्यादि कितने ही लक्षण रह सकते हैं; किन्तु दस्त के साथ – मर्क्यूरियस का वेग या कूथन और शूल का दर्द बिलकुल नहीं रहता, अगर रहता भी है तो बहुत थोड़ा – यही मर्क्यूरियस सॉल के साथ मर्क्यूरियस डलसिस का प्रभेद चुनने का सहज उपाय है। बच्चो के अतिसार में – मल का रंग हरा हो, मलद्वार की खाल गल जाय और थोड़ी-सी भी कूथन रहे तो पहले मर्क्यूरियस डलसिस का स्मरण करना चाहिये।

कब्ज – इसकी 1x विचूर्ण शक्ति, 2-3 ग्रेन की मात्रा में पानी के साथ घण्टे में कई मात्रायें देने से जुलाब की क्रिया होती है।

कान की बीमारी – बहुत दिनों तक पीब निकलने की वजह से आंशिक या सम्पूर्ण बहरेपन में – कैलोमेल या मर्क्यूरियस डलसिस फायदा करती है।

मुँह की बीमारी – मुँह में बहुत बदबू आना, बदबूदार लार बहना, मसूढ़ों और गले में घाव। जीभ काले रंग की, कभी-कभी लार भी काले रंग का।

क्रियानाशक (antidote) – हिपर।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

क्रम – 3x से 6 शक्ति।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here