मॉर्फिनम [ Morphinum Homeopathic Medicine In Hindi ]

380

[ अफीम का उपक्षार : an alkaloid of opium] – जैसा बेलेडोना के साथ ऐट्रोपिन का सम्बन्ध है वैसा ही अफीम के साथ ‘मॉर्फिनम‘ का सम्बन्ध है। किसी भी तरह की तकलीफ या दर्द से रोगी जब बहुत ज्यादा छटपटाने लगता है तो ऐलोपैथ डॉक्टर लोग इसी ‘मार्फिया’ का हाइपोडर्मिक इंजेक्शन दिया करते हैं। इससे 10-15 मिनट के अन्दर रोगी सो जाता है। होमियोपैथी में निम्नलिखित लक्षणों में इसका व्यवहार होता है और उससे फायदा भी होता है :-

  1. जरा-सा सिर किसी तरफ हिलाते ही सिर में चक्कर आने लगना, माथा भारी और गरम मालूम होना।
  2. आँखो के आगे अँधेरा दिखाई देना, कुछ भी दिखाई नहीं देना, जैसे चारों ओर अन्धकार ही अन्धकार हो।
  3. रोना – रोगी लगातार रोता है, किसी के साथ कुछ बातचीत, यहाँ तक कि चिकित्सक को अपनी बीमारी का हाल बताने में भी रो देता है।
  4. एकाएक मूर्च्छा, ऐसा मालूम होना कि अब मृत्यु सन्निकट आ पहुँची है।
  5. पैर इतने अस्थिर रहना कि ऐसा मालूम होना जैसे कोई दबा रखे तो अच्छा हो, पैर के भीतर अनगिनत कीड़े रेंगते-से मालूम होना।
  6. हाथ-पैर काँपना और उनमें अकड़न होना।
  7. बहुत ज्यादा सोने की इच्छा या अत्यधिक कमजोर महसूस होना, किन्तु पूरी तरह नींद नहीं आना, अर्ध-निद्रा और अर्ध-जाग्रत अवस्था में पड़ा रहना और सोते-सोते चौंक पड़ना।

क्रियानाशक – ऐवेना, ऐट्रोपिन, बेल, इपि।

सदृश – एपोमॉर्फ़ि, ओपि, कैमो, कॉफि, माॅस्कस।

क्रम – 3x से 6x विचूर्ण।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.