मुँहासे हटाने के घरेलू उपाय – पिम्पल्स के दाग

493

मुँहासे का कारण – यह रोग युवक-युवतियों को समान रूप से होता है। यह प्राय: वसा ग्रन्थियों के विकार तथा प्रणालीविहीन ग्रन्थियों के असन्तुलन से उत्पन्न होता है। पुरुषों के अण्डकोषों के अन्तस्राव और स्त्रियों में डिम्ब के अन्तस्राव के विकार, भोजन के विकार, अधिक व्यायाम, कार्बोहाइड्रेट और वसा पदार्थों का अधिक सेवन तथा अधिक हस्त मैथुन क्रिया आदि कारणों से होता हैं। जब टट्टी, पेशाब, साँस के रास्ते, शरीर के अन्दर के मैल बाहर नहीं निकल पाते तो ये नया रास्ता खोजते हैं और चेहरे पर मुँहासे के रूप में निकल आते हैं।

मुँहासे के लक्षण – यह युवावस्था में होने वाला शोथयुक्त चर्मरोग है। इसमें नवयुवक एवं नवयुवतियों के मुख पर कीलें (फुन्सियाँ) निकल आती हैं जो आगे चलकर बहुत सख्त हो जाती हैं तथा उनमें पीप पड़ जाती है। हल्के ढंग के मुँहासे में दानों का मुँह नुकीला होता है और दबाने से उनमें से चर्बीली कीलें निकलती हैं। मुँहासे अधिक बढ़ जायें तो सुन्दर चेहरा भी भद्दा-सा दिखाई देने लगता हैं।

मुँहासे का इलाज घरेलू आयुर्वेदिक/जड़ी-बूटियों द्वारा
( muhase hatane ka gharelu upay )

(1) मुल्तानी मिट्टी के साथ मेहँदी और आँवला को भिगोकर रात भर रख दें, सुबह सबको मिलाकर उसमें पीसी हुई हल्दी, दही, मक्खन, जौ का आटा, गेहूँ का महीन पिसा हुआ आटा, चने का आटा, मकई का आटा मिलाकर (आधा-आधा मुट्ठी) लेप बनाकर उसको मुँहासों पर लगायें। त्रिफला चूर्ण में बेसन और हल्दी मिलाकर उसका लेप मुँहासों पर लगायें।

(2) मजीठे को पीसकर चूर्ण बनाकर उसमें शहद मिलाकर मुखलेप तैयार करें। इसे अधिक प्रभावशाली बनाने के लिये जरा-सी हल्दी और दो चम्मच चन्दन का महीन चूर्ण भी डाल सकते हैं। स्नान से पूर्व इसे मुँह पर लगा लें, फिर कुछ देर धूप में बैठकर धूप का सेवन करें। फिर ठण्डे पानी से धो लें।

(3) केला, अमरूद, सन्तरा, सेब आदि को पीसकर फल मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण में दही और पिसी हुई हल्दी मिलायें। साथ में तुलसी रस और शहद की दो चार बूंद डालकर इससे बनाये गये मुख लेप का सुबह-शाम कम से कम एक महीने तक सेवन करें। निश्चय ही लाभ होगा।

(4) बादाम 1 नग, मुनक्का 1 नग रात को पानी में भिगोकर रख दें। सुबह उन्हें मसलकर छान लें। फिर उसी पानी में बेसन, हल्दी और महीन जौ का आटा मिलाकर पेस्ट बनाकर उसका मुखलेप के रूप में सेवन करें।

(5) मसूर की दाल को पोटेशियम परमेंगनेट के जल में घोलकर उसके गुलाबी रंग लें। रंगने के पश्चात दाल को सुखा कर अत्यन्त महीन पीस लें। इस पिसी हुई दाल में उसके चौथाई हिस्सा आरारोट को भली प्रकार मिलाकर शीशी में भर लें। थोड़ा-सा लगाते समय गाय का दूध, घी या पानी में पेस्ट बनाकर लगायें।

(6) शरीर पर कहीं भी काले दाग या चकत्ते हों, टमाटर काटकर पट्टी बाँध लें। कुछ ही दिनों में त्वचा सामान्य हो जायेगी।

(7) फिटकरी और कालीमिर्च समान मात्रा में पीसकर गाढ़ा लेप मुँहासे पर लगायें। अच्छा हो साथ ही चन्दन भी घिस लें। रात को लेप लगाकर सो जायें और सुबह मुँह धो लें फिर हल्की-सी क्रीम लगा लें।

(8) संतरे के तने की छाल, संतरे के फल का छिलका और उसके पत्ते सब पीसकर बेसन दही के मिश्रण में डालकर मुँहासों पर लेप करें। इस लेप को और भी अधिक प्रभावकारी सिद्ध करने के लिए आप शहद की कुछ बूंदें उसमें डाल सकते हैं।

(9) लाल चन्दन, जायफल तथा कालीमिर्च समान भाग में लेकर पानी में पीसकर लगाने से मुँहासे ठीक हो जाते हैं।

(10) मसूर की दाल 50 ग्राम, हल्दी 10 ग्राम, नींबू का रस मिलाकर जल के साथ पीसकर लेप करने से मुँहासे ठीक हो जाते हैं।

(11) छाछ से चेहरा धोने से मुंहासों के दाग दूर होते हैं।

(12) नारंगी के छिलकों को मुंहासों पर रगड़ने से राहत मिलती है।

(13) जामुन के बीज को पानी में घिसकर चेहरे पर लगाने से मुंहासे दूर होते हैं।

(14) एकदम पके और गले पपीते को छीलकर और मसलकर चेहरे पर कुछ देर तक मालिश करें। 15-20 मिनट बाद जब यह सूखने लगे तो पानी से धो दें। अच्छी तरह से चेहरा पोंछकर नारियल या तिल के तेल से मसाज करें। एक सप्ताह तक यह प्रयोग करें। चेहरा चमक उठेगा।

(15) 10 ग्राम बेसन और 10 ग्राम हल्दी पाउडर दही में मिलाकर चेहरे पर लगाएं। सूख जाने पर धो दें।

(16) आलू को कद्दूकस कर लें। इसमें नींबू का रस और मुल्तानी मिट्टी मिलाकर पेस्ट बना लें। 20 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें और ठंड़े पानी से चेहरा धो लें। त्वचा के दाग-धब्बे दूर करने का यह भी अच्छा उपाय हैं।

(17) अदरक के रस में नमक मिलाकर रात को चेहरे पर लगाएं और सुबह धो दें। इससे भी दाग-धब्बे दूर होकर स्किन हेल्दी होगी।

(18) जायफल और लाल चंदन को पानी में घिसकर चेहरे पर लेप करने से मुंहासे दूर होते हैं।

(19) नीम की जड़ को पानी में घिसकर मुंहासों पर लगाने से आराम मिलता है।

(20) संतरे के छिलकों को छाया में सुखाकर बारीक पाउडर बना लें। इसे गुलाबजल के साथ मिक्स करके चेहरे पर लगाएं।

(21) मसूर की दाल को पीसकर दूध, कपूर और घी में मिलाकर चेहरे पर लगाएं।

(22) एक कटोरी गर्म पानी में एक चम्मच नमक डालकर तौलिए की सहायता से मुंहासों पर लगाएं। थोड़ी चुनचुनाहट भी हो तो घबराएं नहीं, 10 दिन में मुंहासे दूर हो जाएंगे।

(23) 1 कप दूध में नींबू का रस मिलाएं। सुबह इसे तैयार करके रात को चेहरा साफ करके इस लेप को लगाएं सुबह धो दें। कुछ दिन तक यह प्रयोग करें काफी लाभ होगा।

(24) नीम, तुलसी, मेथी, पुदीना आदि की पत्तियों को पीस लें। इसमें मुल्तानी मिट्टी, कपूरकाची, संतरा पाउडर मिलाकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाएं। पूरी तरह सूखने पर धो लें। यह एक बेहतरीन पिंपल पैक है।

(25) नींबू का रस, बादाम का तेल और ग्लिसरीन तीनों समभाग लेकर शीशी में भरकर अच्छी तरह मिलायें और प्रतिदिन प्रात: सायं मुख पर मलें। इसके निरन्तर प्रयोग से कील, मुंहासे और झांईयां दूर हो जाती हैं।

(26) गुलाब के फूल का अर्क लगाने से मुंहासे साफ हो जाते हैं।

(27) नींबू के अर्क में नौसादर मिलाकर लगाने से मुंहासों को आराम मिलता है।

(28) सुबह दातुन करते समय दातुन के कूचे को मुंह पर फेरने से मुंहासे साफ हो जाते हैं और फिर नहीं निकलते ।

(29) दूध पर पड़ी हुई ओस को मुंह पर लगाने से मुंहासे निकलने बन्द हो जाते हैं।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.