नाइट्रि स्पिरिटस डलसिस [ Nitri Spiritus Dulcis Homeopathy In Hindi ]

0
123
Nitri Spiritus Dulcis

होमियोपैथी की अपेक्षा एलोपैथी में यह दवा अधिक उपयोग होती है। शायद होमियो-चिकित्सा-शिरोमणि डॉ महेन्द्रलाल सरकार ने ही अपनी “हैजा चिकित्सा” नामक अंगरेजी पुस्तक में सबसे पहले इसका उल्लेख किया है कि जब मूत्र विकार के लिए होमियोपैथी दवा से फायदा न हो तब इसकी 5 बून्द की मात्रा, 10-15 मिनट के अन्तर से, गुनगुने पानी के साथ देने से विशेष लाभ हो सकता है। किसी प्रकार के ज्वर में ( in low fever ) अथवा किसी अन्य बीमारी में जब रोगी की चेतना नष्ट ( sensorial apathy ) हो जाती है और बड़ी मुश्किल से उसे जरा सा जगाया जा सकता है, उस समय – एक बड़े गिलास भर पानी में कई बून्द नाइट्रि स्पिरिट मिलाकर, 1-2 चाय-चम्मच की मात्रा में 2-3 घण्टे के अंतर से प्रयोग करना चाहिए। ओपियम, एसिड फॉस, हेलिबोरस आदि कई दवाओं के साथ इसका प्रभेद जान लेना आवश्यक है, इसका ध्यान रखें। श्वासयंत्र की बीमारी में कुछ कदम चलते ही साँस तेज हो जाए तो – इससे फायदा होता है। स्टर्नम के नीचे तकलीफ देनेवाला संकोचन जैसा दर्द होना। इसके द्वारा डिजिटेलिस की क्रिया बढ़ती है।

Loading...
SHARE
Previous articleनूफर लूटियम [ Nuphar Luteum Q Benefits In Hindi ]
Next articleनैट्रम नाइट्रिकम [ Natrum Nitricum Homeopathy In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here